शराब लाइसेंस के आवेदन पर पशुपतिनाथ मंदिर, बीजेपी विधायक ने की आपत्ति

विधायक जी की आपत्ति पर क्या कार्रवाई होती है, यह तो देखने वाली बात है लेकिन यह बात पर है कि यदि यह विज्ञापन नहीं हटा तो बवाल मचना तय है।

Yashpal Singh Sisodiya
Yashpal Singh Sisodiya

मंदसौर डेस्क रिपोर्ट। मंदसौर के पीआरओ ट्विटर अकाउंट पर दिया गया एक विज्ञापन बवाल का विषय बन गया है। शराब लाइसेंस के लिए जारी किए गए इस विज्ञापन में भगवान पशुपतिनाथ मंदिर के साथ एक अन्य मंदिर का चित्र है जिसे लेकर बीजेपी विधायक ने घोर आपत्ति की है।

पीआरओ जनसंपर्क मंदसौर के ट्वीटर अकाउंट पर दिए गए विज्ञापन में आकस्मिक लाइसेंस तीन श्रेणियों में जारी करने के बारे में कहा गया है। इसके विस्तृत विवरण में बताया गया है कि यह लाइसेंस आबकारी विभाग द्वारा शादी विवाह, समारोह और पार्टी जैसे अवसरों पर मेहमानों को शराब उपलब्ध कराने के लिए तीन दिन के लिए आकस्मिक लाइसेंस जारी किया जाता है। विभाग द्वारा इसके आवेदन को ऑनलाइन किया गया है। नीचे जनसंपर्क विभाग के साथ-साथ जिला जनसंपर्क कार्यालय मंदसौर का चित्र है जिसमें भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर और धर्मराजेश्वर के मंदिर को दिखाया गया है। बीजेपी के मुखर विधायक यशपाल सिसोदिया ने ट्वीट करके इसकी आलोचना की है और उन्होंने लिखा है कि शराब की उपलब्धता सुनिश्चित कराने को लेकर जनसंपर्क विभाग के द्वारा पशुपतिनाथ मंदिर और धर्मराजेश्वर के प्रचार प्रसार हेतु डिजाइन किए गए चित्रों के साथ जानकारी देना कदापि उचित नहीं होकर आपत्तिजनक है। संबंधित अधिकारी इसे संज्ञान में लें।विधायक जी की आपत्ति पर क्या कार्रवाई होती है, यह तो देखने वाली बात है लेकिन यह बात पर है कि यदि यह विज्ञापन नहीं हटा तो बवाल मचना तय है।