कोरोना संकटकाल में परिवार सहित जनसेवा में जुटे एसडीओपी

मंदसौर। तरुण राठौर| पुलिस का मूल मंत्र है देश भक्ति जन सेवा इसी मूल मन्त्र को मंदसौर के एक पुलिस अधिकारी साकार करने में जुटे है। एसडीओपी और उनका का परिवार घर पर भोजन बनाते है । अपनी जीप में एसडीओपी खुद भोजन के पैकेट बाटने जाते है । मन्दसौर के पुलिस अधिकारी एसडीओपी शेर सिंह भूरिया के घर जहां उनकी पत्नी,मां,बेटा भतीजा उनका वाहन चालक और खुद एसडीओपी शेर सिंह भूरिया अपने घर में भोजन के पैकेट तैयार करते है ।

दरसल कोरोना महामारी के चलते देश मैं 21 दिन के लॉक डाउन उसके बाद उपजी विकट परिस्थितियों को देख एसडीओपी और उनके परिवार ने गरीब लोगों और कोराना जंग में अपनी ड्यूटी निभा रहे पुलिस कर्मियों, रास्ते से निकल रहे ट्रक ड्राइवर ओर मजबूर व्यक्तियों के लिए भोजन की व्यवस्था का जिम्मा संभाला था । तब से लेकर अब तक ये सिलसिला बदस्तूर जारी है । पूरा परिवार तकरीबन 100 से ज्यादा भोजन के पैकेट प्रतिदिन पुलिसकर्मियों और अन्य लोगों तक मुहैया करवा रहे हैं । एसडीओपी शेर सिंह भुरीया देश के विकट हालातो के बीच अपनी दोहरी भूमिका भी निभा रहे है। जहां एक और चार ग्रामीण थानों के एसडीओपी रूप में अपना कर्तव्य निभा रहे हैं । वहीं वे और उनका पूरा परिवार कोरोना वायरस की इस जंग में दिन रात कोरोना योद्धा के रूप में अपना कर्तव्य निभाते हुए पुलिसकर्मियों और अन्य लोगों को भोजन पहुंचा रहे हैं । हालांकि अपनी पुलिस ड्यूटी के दौरान वे ज्यादा वक्त नहीं दे पाते लेकिन फिर भी सुबह बनने वाले भोजन में अपने पूरे परिवार के साथ भोजन बनाने में पूरी सहभागिता निभाते हैं । इसके बाद खुद अपने वाहन चालक के साथ ग्रामीण के दूर दराज पाइंट पर पदस्थ उन पुलिसकर्मियों और अन्य लोगों तक भोजन के पैकेट बांटने जाते हैं । जहां सबसे ज्यादा जरूरत इस वक्त अपने कर्तव्य के लिए मैदान में तैनात अपने साथियों के लिए है । श्री भूरिया ने अपनी माता जी के कहने पर भोजन बनाकर वितरण करने का फैसला किया था। उनके इस फैसले में उनकी पत्नी और बच्चे ने उनका साथ दिया। परिजनों के अलावा इस पुनीत कार्य मे उनका ड्रायवर व उसका परिवार भी सम्मिलित हो गया। अब नित्य प्रतिदिन भोजन के पैकेट की संख्या में इजाफा होने लगा है। भूरिया परिवार इस सेवाभावी काम से आनंदित है।
इनका कहना है …..
पुलिस के मूल मंत्र देश भक्ति जन सेवा है पुलिस की ड्यूटी करते हुवे देश भक्ति का कार्य कर रहा हूँ। लेकिन जनसेवा करने के लिए माता जी, पत्नी,ओर बच्चे कहा कि घर पर भोजन बनाकर वितरण किया जाय। और हमने लॉक डाउन के दिन से ही भोजन बनाना प्रारम्भ कर दिया था वह निरन्तर जारी है।
शेर सिंह भुरीया एसडीपीओ मंदसौर