लॉकडाउन के दिनों में गायों को घास खिलाते हुवे युवा व स्वनो(कुत्तों) को टोस्ट खिलाती युवती

मंदसौर। तरुण राठौर।

कोरोना वायरस के 21 दिन के लॉकडाउन में जहां समाजसेवियों ने गरीब और राहगीरों के भोजन की व्यवस्था कर मानव सेवा की मिसाल कायम की है । वही इन दिनों शहर और ग्रामीण इलाकों में घूम रहे पशुओं के सामने एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई थी । इसके बाद कुछ समाजसेवी भी बाजारों में आवारा घूम रहा है पशुओं के लिए भी जीवनदान बनकर सामने आए हैं । मन्दसौर के कुछ युवा मिलकर आवारा मवेशियों के लिए हरी घास की व्यवस्था कर शहर भर के मवेशियों को घास डाल रहे हैं । शुरुआती दौर में इन्होंने शहर घुम रहे मवेशियों के चारा पानी की व्यवस्था करने का बीड़ा उठाया था । लेकिन इनकी सेवा भाव को देखकर शहर के अन्य समाजसेवी भी अब इन्हें सहायता पहुंचा रहे हैं । अपने एक लोडिंग वाहन से युवाओं की एटीएम पूरे शहर में घूम कर जहां भी ने मवेशी दिखाई देते हैं वहां उन्हें चारा पानी करते हैं । इसके साथ ही आवारा कुत्तों और अन्य जानवरों के लिए दूध और बिस्किट की व्यवस्था भी युवाओं की यह टीम कर रही है। भूखे मर रहे जानवरों के लिए अन्य समाजसेवी भी आगे आकर बाजारों में घूम रहे कुत्तों के लिए बिस्किट पहुंचा रहे हैं । देश में मुश्किल हालातों के बीच इन मुक प्राणियों के लिए मानवता की मिसाल सराहनीय है । जहां लोग अपने भोजन की व्यवस्था में जुटे हैं वहीं इन मुक प्राणियों के लिए समाजसेवी ईश्वर के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं ।