सैनिक सम्मान के साथ हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, नम आंखों से दी विदाई

सीआरपीएफ के अधिकारियों ने मेजर वकील सिंह के पुत्र को राष्ट्रीय ध्वज सौंपा

मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना निवासी सीआरपीएफ (CRPF) के हवलदार वकील सिंह की दिल्ली मंत्रालय में गोली मारकर हत्या कर दी गयी। हवलदार वकील सिंह (HC vakil singh) के शरीर में जवान अमन सिंह ने करीब 7 गोली मारी जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गयी। बताया जाता है कि वकील सिंह का उनके ही साथी जवान अमन सिंह से किसी बात पर झगड़ा हो गया। झगड़ा इतना बढ़ गया कि अमन ने हवलदार (मेजर) वकील सिंह पर 7 गोलियां बरसा दी जिससे उनकी मौत हो गयी। सूचना मिलते ही परिजन दिल्ली पहुंचे और आज बुधवार को शव के लेकर मुरैना पहुंचे।

मेजर वकील सिंह के शव को दिल्ली से लाकर मुरैना रेस्ट हाउस में रखा गया उसके बाद शव को घर ले जाते समय जौरा रोड पर परिजनों ने चक्काजाम लगा दिया। परिवार वाले वकील सिंह के शव को देखकर आक्रोशित हो गए और उनकी मांग थी कि हवलदार वकील सिंह को शहीद का दर्जा दिया जाये और उनके नाम से एक पार्क खोला जाये। काफी मशक्कत के बाद समझा-बुझाकर जाम को खोला गया। मौके पर पहुंचे एसडीएम ने वकील सिंह के नाम से पार्क खोलने की अनुमति दी उसके बाद कहा के आगे की कार्रवाई केंद्र सरकार की तरफ से की जाएगी। शहीद का दर्जा देना केंद्र सरकार की जिम्मेदारी होती है। उसके बाद शहीद के शव को घर पर पहुंचाया गया।

ये भी पढ़ें – T20 World Cup 2021 : नए अंदाज़ में दिखेगी ‘मैन इन ब्ल्यू टीम’, BCCI ने लॉन्च की जर्सी

अंतिम संस्कार की पूरी प्रक्रिया करने के बाद गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।  सैनिक टुकड़ी ने सशस्त्र सलामी देते हुए मेजर वकील सिंह को अंतिम विदाई दी। सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों, पूर्व विधायक और परिवारजनों ने फूल माला पहनाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। सीआरपीएफ के अधिकारियों ने मेजर वकील सिंह के पुत्र को राष्ट्रीय ध्वज सौंपा । वकील के शव को प्रेमनगर में राजकीय सम्मान के साथ उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान सीआरपीएफ के जवान और प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा भारी संख्या में स्थानीय लोगों की भीड़ शहीद के अंतिम दर्शनों के लिए उमड़ पड़ी। सभी लोगों ने नम आंखों से भारत के सपूत को श्रद्धांजलि दी।

ये भी पढ़ें – MP: त्योहार से पहले बकाए एरियर्स के भुगतान की मांग, शिक्षक संवर्ग ने दी आंदोलन की चेतावनी

सैनिक सम्मान के साथ हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, नम आंखों से दी विदाई सैनिक सम्मान के साथ हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, नम आंखों से दी विदाई सैनिक सम्मान के साथ हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, नम आंखों से दी विदाई सैनिक सम्मान के साथ हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, नम आंखों से दी विदाई