Jabalpur News: 15 मीटर से अधिक ऊँची इमारतों को जारी होंगे नोटिस , बिना फायर एनओसी वाली इमारतों पर होगी कार्रवाई

डेस्क रिपोर्ट, जबलपुर। प्रदेश में सुरक्षा के लिहाज से अब नगर निगम ने 15 मीटर से उंची सभी इमारतों के प्रबांधकों को फायर ऑडिट कराना आवश्यक हो गया है। ऐसा नहीं कराने पर नगर निगम भवनों को सील करने की कार्रवाई करेगी। शहर में 100 से अधिक ऐसी इमारतें जिनकी 15 मीटर से अधिक ऊंचाई हैं। इमारतों में होटल(Hotel),हॉस्पिटल(Hospital), शैक्षणिक संस्थान(Education institute),अपार्टमेंट(Apartments),कमर्शियल कॉम्पलैक्स आदि शामिल हैं।

NOC नहीं तो की जाएगी कार्रवाई
नगर निगम का कहना है कि अगर यदि ऐसी इमारतों ने शीघ्र ही एनओसी नहीं ली गई तो इन पर कार्रवाई की जाएगी।
15 मीटर से ऊंची हर इमारत के मालिकों या संस्थाओं को 30 जून से पहले हर हाल में फायर ऑडिट कराना होगा। साथ इसके फायर ब्रिगेड द्वारा सुझाए गए मानकों का प्रावधान करने को भी कहां है। इसके बाद एनओसी लेना होगा। इतना ही नहीं शहर में 2 इमारतें ऐसी हैं जिनकी ऊँचाई 30 मीटर के लगभग है और 100 से अधिक इमारतें ऐसी हैं जिनकी ऊँचाई 15 मीटर से ज्यादा है।

फायर ब्रिगेड इसके लिए नोटिस जारी किए जा रहे हैं। एनओसी कराने वाली सभी इमारतों का निरीक्षण जून महीने के अंत तक कर लिया जाएगा। इसके अलावा यह प्रवाधान भी है कि जो भी फायर ब्रिगेड द्वारा सुझाए गए मानकों का पालन नहीं करेगा उसका एनओसी नहीं दी जाएगी।

जनवरी महीने से जारी किए जा रहे नोटिस-
इस से पहले भी जनवरी महीने में नगरीय प्रशासन विभाग ने सभी होटल और हॉस्पिटलों के लिए फायर एनओसी लेना अनिवार्य किया गया था। साथ ही उसके तहत नोटिस जारी किए जा रहे थे। अब इसमें बाकी संस्थानों को भी जोड़ लिया गया है और उन्हें भी नोटिस जारी किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़े-Ujjain News:घर के बाहर पानी भरे टब में डूबने से हुई दो साल की मासूम की मौत, घटना से पहले घूमने की कर रही थी जिद

एक फ्लोर 3 मीटर का होता है और इस लिहाज से शहर में 5 मंजिला या उससे अधिक वाली जितने भी भवन हैं। वे सभी इस दायरे में शामिल होंगे।इसलिए उन्हें एनओसी लेना अनिवार्य होगा। क्योंकि अपार्टमेंट इससे अधिक ऊँचे बन रहे हैं और उनमें सैकड़ों लोग रहते हैं। इसलिए उनकी सुरक्षा के लिए यह कदम बेहद जरूरी है।

ये भी पढ़े-Panna News:पन्ना के जंगल में रहने वाला स्याहगोश अब हुआ दुर्लभ, 2 दशक पहले आया था नजर

कुशाग्र ठाकुर, फायर अधीक्षक नगर निगम का कहना है कि ऊँची इमारतों का फायर ऑडिट किया जा रहा है और जहाँ जो खामी मिल रही है उसे दूर करने के निर्देश दिए जा रहे हैं। इसके बाद दोबारा निरीक्षण होगा और यदि कहीं भी खामी नजर आती है तो बिल्डिंग सील करने की कार्रवाई की जाएगी। किसी भी हाल में असुरक्षित भवन में लोगों को उनके भरोसे नहीं छोड़ा जाएगा।