मुरैना में यातायात थाना परिसर में आरक्षक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, जांच पड़ताल शुरू

बीती रात यातायात थाने में पदस्थ आरक्षक हरेंद्र सिंह जाट उम्र 28 ने अज्ञात कारणों से फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलते ही एसपी, एएसपी, एफएसएल की टीम सहित पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए।

मुरैना

मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना (morena) के सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के बैरियर स्थित यातायात थाना परिसर (traffic station premises) में ट्रैफिक आरक्षक (traffic policeman) हरेंद्र जाट ने मन्दिर के पास बने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या (suicide) कर ली। सूचना मिलते ही एसपी सहित भारी संख्या में पुलिस बल (police force) मौके पर पहुंच गया। जानकारी के अनुसार बीती रात यातायात थाने में पदस्थ आरक्षक हरेंद्र सिंह जाट उम्र 28 ने अज्ञात कारणों से फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलते ही एसपी, एएसपी, एफएसएल की टीम सहित पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुँच गए।

यह भी पढ़ें… मरीज बनकर कोल्ड ओपीडी पहुंचे ऊर्जा मंत्री, नहीं मिले डॉक्टर, कलेक्टर को फोन कर जताई नाराजी

मुरैना

सुबह जब थाने के अन्य साथियों ने देखा कि हरेंद्र उठकर बाहर नहीं आया तब उन्होंने कमरे का दरवाजा खोला तो आरक्षक रस्सी से लटका हुआ पड़ा था और रस्सी से दोनो हाथ बंधे हुए थे। दरवाजा अंदर से बन्द था। सूत्रों की माने तो मृतक आरक्षक ने अपने साथियों के दरवाजों की कुंडी लगाकर आत्महत्या कर ली। आरक्षक बीती रात 4 से 5 बार बाहर टहलता रहा। उसके बाद आरक्षक ने करीब पौने दो बजे के आसपास फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। डॉग स्क्वाड की टीम भी मौके पर पहुँच गयी।

यह भी पढे़ं… बढ़ते संक्रमण के बीच निजी स्कूलों की मनमानी, बढ़ाई फीस, बाल आयोग ने विभाग को लिखा पत्र

इस पूरे मामले में रिपोर्ट आने के बाद पता चलेगा कि आरक्षक की हत्या हुई है या फिर उसने आत्महत्या की है। एसपी सुनील कुमार पांडे का कहना हैं कि सूचना मिली कि आरक्षक ने अपने 3 साथियों के कमरे को बन्द कर दूसरे कमरे में जाकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली और उसके दोनों हाथ रस्सी से बंधे हुए थे।आरक्षक करीब 2 साल से मुरैना यातायात में पदस्थ था। एफएसएल और डॉग स्क्वाड की टीम मौके पर आ गयी है। आरक्षक के शव को पीएम हाउस भिजवा दिया है।