मध्य प्रदेश में फिर बरसे आफत के ओले, यहां सरसों की खड़ी फसल खराब

hails-in-morena-Cropped-Mustard-Crops

मुरैना। मध्य प्रदेश में लगातार मौसम करवट बदल रहा है। जिससे प्रदेश के किसानों को उनकी फसल खराब होने की चिंता सता रही है। वहीं, सोमवार को हुई अचानक बारिश और ओलावृष्टि से दर्जनों गावों में सरसों की खड़ी फसल को नुकसान पहुंचा है। मौसम विभाग ने पिछले हफ्ते ही ओले गिरने की चेतावनी दी थी। साथी ही किसानों के लिए अलर्ट भी जारी किया था। 

जानकारी के अनुसार सोमवार को जिले में मौसम के अचानक बदलने से हल्की बारिशे के साथ ओले भी गिरे। किसानों का कहना है कि हल्की बारिश के साथ चने के आकार के ओले पड़े जिससे खेतों में सरसों की तैयार फसल खराब हो गई। ओलावृष्टि की खबर के बाद दिमनी क्षेत्र के विधायक गिर्राज डंडोतिया और राजस्व विभाग के अधिकारी नुकसान का जायजा लेने ओलावृष्टि से प्रभावित पांचोली, सिहोनियां, मई, कोलुआ, रुहरिया, बाबरी पूरा, लल्लू बसई, खडिय़ाहर, करारी, रघुनाथ पुर सिधारी का पूरा ,तुतत् का पूरा, अखे पूरा, जताबर, गोपाल पूरा, भटारी आदि गांवों में पहुंचे। सूत्रों का कहना है कि यहां करबी 25 से 30 फीसदी फसल खराब होने की संभावना है। 

गौरतलब है कि लगातार मौसम के बदले से फसलों को नुकसान हो रहा है। इससे पहले भी प्रदेश के कई जिलों में किसानों को मौमस की मार झेलना पड़ी थी। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नुकसाल का आंकलन करने के निर्देश भी दिए थे और कहा था कि जिन किसानों की फसल खराब हुई है सरकार उन्हें मुआवजा भी देगी। इसके लिए प्रदेश के सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए गए थे कि जिन जिलों में फसलों को मुकसान पहुंचा है वहा का जायजा लिया जाए और जल्द किसानों की सहायता की जाए।