मुरैना कलेक्टर की बड़ी कार्रवाई – 4 अधिकारियों को नोटिस, वेतन काटने के भी निर्देश

बैठक में देरी से के चलते कलेक्टर ने 3 पशु चिकित्सों (Veterinary Officer) को कारण बताओ नोटिस और आधा दिवस का वेतन काटने (deduct salary) के निर्देश दिए है।

मुरैना कलेक्टर

मुरैना, डेस्क रिपोर्ट। मुरैना कलेक्टर (Morena Collector) की कमान संभालते ही IAS बी कार्तिकेयन (B Karthikeyan) एक्शन मोड में काम कर रहे है। आए दिन लापरवाहों पर बड़ी कार्रवाई की जा रही है। अब समीक्षा बैठक में देरी से के चलते कलेक्टर ने 3 पशु चिकित्सों (Veterinary Officer) को कारण बताओ नोटिस और आधा दिवस का वेतन काटने (deduct salary) के निर्देश दिए है। वही सहायक संचालक मत्स्य उद्योग (Assistant director fisheries industry) को कारण बताओ नोटिस (Notice) जारी किया गया है।तीन दिन के अंदर इस नोटिस का जवाब देना है।

यह भी पढ़े… पंचायत चुनाव से पहले शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, निर्देश जारी

दरअसल, दो दिन पहले कलेक्टर बी. कार्तिकेयन ने पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) की योजनाओं की समीक्षा बैठक बुलाई थी, जिसमें पशु चिकित्सा अधिकारी कैलारस डॉ. कमलेश गुप्ता, पशु चिकित्सा अधिकारी सुजरमा डॉ. वेदवृत और पशु चिकित्सा अधिकारी सबलगढ़ डॉ. सुमित सिंह देरी से पहुंचे।देरी से आने पर कलेक्टर ने कारण पूछा तो तीनों डॉक्टर (Doctor) कारण संतोषजनक नहीं बता सके।

इस पर कलेक्टर ने लापरवाही एवं उदासीनता मानते हुये तीनों डॉक्टरों को मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1965 (Madhya Pradesh Civil Services Conduct Rules 1965) के तहत कदाचरण की श्रेणी में माना । इस पर उन्होंने कार्य नहीं तो वेतन नहीं मानकर माह फरवरी 2021 पेड इन मार्च 2021 के वेतन से अर्द्ध दिवस का अकार्य दिवस घोषित कर अवैतनिक किया जाये, इस संबंध में अपना जबाव 3 दिवस के अंदर प्रस्तुत करें। अन्यथा संबंधित डॉक्टर के खिलाफ एक पक्षीय कार्रवाही की जायेगी।

यह भी पढ़े… MP Board: 1 घंटे पहले शुरू होगी 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा, ये हैं अन्य बदलाव

वही मत्स्य विभाग की योजनाओं की समीक्षा बैठक में सहायक ग्रेड-2 कर्मचारी उपस्थित हुआ। उसके द्वारा बताया गया कि सहायक संचालक  अखिलेश पाण्डे अवकाश पर है। इस पर कलेक्टर द्वारा अवकाश स्वीकृत व मुख्यालय से बाहर जाने की अनुमति जानना चाही तो कोई जबाव संतोषजनक नहीं मिला। इससे शासकीय कार्य (Official work) में बाधा उत्पन्न हुई।

इस उक्त कृत्य शासकीय कार्य के प्रति लापरवाही एवं उदासीनता का घोतक होकर मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के तहत कदाचरण की श्रेणी में आता है। मध्यप्रदेश सिविल सेवा 1966 के तहत सहायक संचालक श्री अखिलेष पाण्डे के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाही की जाये। इस संबंध में श्री पाण्डे अपना जबाव 3 दिवस के अंदर प्रस्तुत करें, अन्यथा एक पक्षीय कार्रवाही की जावेगी।

यह भी पढ़े… विंध्य प्रदेश : जल्द बड़ा आंदोलन करेंगे BJP विधायक नारायण त्रिपाठी, रुपरेखा तैयार

बता दे कि हाल में मुरैना कलेक्टर ने कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा बैठक में 9 अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करते हुये कारण बताओ नोटिस, वेतनवृद्धि तथा वेतन काटने के निर्देश दिये थे।कलेक्टर के द्वारा आए दिन लापरवाहों पर हो रही इस कार्रवाई के बाद हड़कंप मचा हुआ है।