Morena News : मुरैना कलेक्टर का दूसरा एक्शन, 4 और पटवारी निलंबित, मचा हड़कंप

मुरैना कलेक्टर अनुराग वर्मा ने शिकायत के बाद तुरंत 4 पटवारी को निलंबित कर दिया।

मुरैना, संजय दीक्षित। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुरैना जिले में एक बार फिर कलेक्टर अनुराग वर्मा (Collector Anurag Verma)का एक्शन देखने को मिला है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि  में लापरवाही बरतने पर मुरैना कलेक्टर (Morena Collector) ने 4 और पटवारियों को निलंबित कर दिया है। इसके पहले 7 पटवारियों पर गाज गिरी थी।

Morena News : मुरैना कलेक्टर का एक्शन- 3 पटवारी निलंबित, 3 इंजीनियरों का वेतन काटा

आज बुधवार (Wednesday) को कलेक्टर अनुराग वर्मा की अध्यक्षता में तहसील अंबाह एवं पोरसा में विभागीय कार्यों की समीक्षा की गई, जिसमें समस्त राजस्व अधिकारी, पटवारियों के साथ नामांतरण, बंटवारा, नक्शा, सीएम किसान सम्मान निधि, पीएम किसान सम्मान निधि, सीएम हेल्पलाइन, स्वामित्व उपकरण, सीमांकन, बटांकन, नकल शाखा, राहत, राशन वितरण, खाद्य सुरक्षा अधिनियम के संबंध में बैठक ली गई।इस दौरान प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री सम्मान निधि योजना (Prime Minister and Chief Minister Honor Fund Scheme) के काम में लापरवाही बरतने वाले 4 पटवारियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की गई। मुरैना कलेक्टर अनुराग वर्मा ने शिकायत के बाद तुरंत 4 पटवारी को निलंबित कर दिया।

यह भी पढ़े…Suspend : लापरवाही पर गिरी गाज, नगर परिषद उपयंत्री आशुतोष सिंह निलंबित

खास बात ये है कि एक हफ्ते में अबतक 7 पटवारियों को निलंबित किया जा चुका है। इसके पहले सबलगढ़ तहसील (Sabalgarh Tehsil) के तीन पटवारियों (Patwari) नरोत्तम मैकाले, महावीर करौसिया और सत्यम शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspended) कर दिया था इन्होंने पीएम किसान योजना में 65 से 73 प्रतिशत कार्य की प्राथमिकता दिखाई, जबकि इन्हें शत प्रतिशत कार्य पूर्ण करने थे। एक के बाद एक मुरैना कलेक्टर की कार्रवाई के बाद से पटवारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

पिछली बैठक में दी थी चेतावनी

मुरैना कलेक्टर ने पिछली बैठक में चेतावनी देते हुए कहा था कि राजस्व अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि आरबीसी 6-4 के लंबित प्रकरणों को शीघ्र निराकरण करें। ऐसे प्रकरण समाधान में लगे तो उस अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाही होगी। मैं अगले हफ्ते से वी-1 का वाचन कराउंगा। मुझे कमी मिली तो ऐसे पटवारी के खिलाफ सख्त कार्रवाही होगी। अपने-अपने रिकॉर्ड अपडेट करें। जनसुनवाई या अन्य किसी स्त्रोत से मुझे नामान्तरण, बंटवारा की शिकायतें मिलनी नहीं चाहिये। पटवारी गलती से इस विभाग में आ भी गये है तो वे कार्य को प्राथमिकता दें। कार्य नहीं करना है तो नौकरी से त्याग पत्र दें। अगर कार्य पूरा नहीं किया तो मैं सेवा से बाहर कर दूंगा।