चर्चा में मुरैना पुलिस की गांधीगिरी

मुरैना।संजय दीक्षित ।

पुलिस की गांधीगिरी को देखकर बिना हेलमेट पहनने वाले शर्मिंदा नजर आए। मुरैना-प्रदेश में ख़ाकी अपने कारनामों को लेकर हमेशा ही विवादों में घिरी रहती है, लेकिन मुरैना में पुलिस की गांधीगिरी आमजन के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है।अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी ,डीएसपी ट्रैफिक सुनील शर्मा और यातायात प्रभारी अखिल नागर ने जनता को जागरूक करने के लिए गांधीगिरी का अनोखा अभियान चलाया है। बिना हेलमेट और बग़ैर सीट बेल्ट के वाहन चालकों को यातायात नियमो की जानकारी दी गयी साथ ही गुलाब का फूल देकर सुरक्षित यात्रा करने की अपील भी की गयी। पुलिस ने बाइक और ऑटो रिक्शा चला रहे नाबालिग़ बच्चों को भी गुलाब देकर बाइक न चलाने की अपील की है।

स्थानीय लोग हैरत में पड़ गए

शहर के एमएस रोड कोतवाली के सामने गुरुवार को आचानक चारों तरफ़ पुलिस देखकर स्थानीय लोग हैरत में पड़ गए कि आख़िर मामला क्या है। मगर जैसे ही बिना हेलमेट बाइक और बिना सीट बेल्ट लगाए वाहन वहाँ से गुजरे तो  एएसपी और डीएसपी  ने बाइक चालक को रोककर उसे हेलमेट पहन कर बाइक चलाने की नसीहत दी। बाइक सवार चालान होने के डर से परेशान था कि अचानक  अधिकारी ने गुलाब का फूल देते हुए हेलमेट पहन कर बाइक चलाने को कहा। पुलिस की ये गांधीगिरी देखकर स्थानीय लोग हैरत में पड़ गए कि अमूमन जो पुलिस सख़्त रहती थी आज वो इतनी नरम क्यों है। दरअसल ट्रैफिक डीएसपी और यातायात प्रभारी  के नेतृत्व में वाहन चालकों को जागरूक करने व घटनाओं को रोकने के लिए एक अभियान चलाया जा रहा हैं।

चालकों को गांधीगिरी से समझाया गया हैं। बिना सीट बेल्ट बांधे कार चालकों को भी गुलाब का फूल देकर नसीहत दी गयी।यातायात ट्रैफिक की इस पहल को देखकर आम जनमानस ने प्रशंसा की है। एएसपी आशुतोष बागरी ने बताया कि उनका प्रयास है कि लगातार बढ़ रहे सड़क हादसों को रोका जा सके। इसलिए लोगों को यातायात नियमों के पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है आगे भी ऐसे कार्यक्रम चलाये जायेगे। उन्होंने बताया कि आज बिना हेलमेट और बैगर सीट बेल्ट के चालकों को गांधीगिरी से समझाया गया है।

बिना हेलमेट के चलने से शर्मिन्दा नजर आये। कोतवाली के सामने  से गुजर रहे वाहन चालकों को पुलिस द्वारा गुलाब का फूल दिए जाने से चालक बिना हेलमेट के चलने से शर्मिन्दा नजर आये। बाइक सवार लोगों ने बताया की पुलिस का ये सम्मान देकर समझाना उन्हें अच्छा लगा है पुलिस के इस अभियान से वो प्रभावित हुए है और आगे से हेलमेट पहनकर बाइक चलायेगे।बहरहाल पुलिस का गांधीगिरी से काम करना आम जनता को प्रभावित कर गया है मगर ये कितना कारगर साबित होता है और लोग कितना नियमों का पालन करते है ये आने वाला समय तय करेगा।।