Morena: वन-विभाग की एसडीओ पर हमला करने वाले 3 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इसके बाद एसडीओ (sdo) ने आरोपियों (accused) के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। जिसमें 7 ज्ञात और 100 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।

morena

 मुरैना, संजय दीक्षित। मुरैना (morena) में चंबर अभ्यारण की एसडीओ श्रध्दा पांढरे ने अवैध रेत माफियाओं (illegal sand mafia) के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की है। जिसके बाद माफिया बौखलाए हुए है और हमला (attack) करने से भी नही चूक रहे है। दो दिन पूर्व देवगढ़ थाना क्षेत्र के पठानपुरा में रेत से भरी ट्रैक्टर ट्राली पकड़कर थाने के सुपुर्द की जा रही थी तभी नहर पर ग्रामीणों (villagers) के द्वारा लाठी डंडों से हमला कर ट्रैक्टर ट्रॉली छुड़ाकर ले जाई गई। इसके बाद एसडीओ (sdo) ने आरोपियों (accused) के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। जिसमें 7 ज्ञात और 100 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।

यह भी पढ़ें… Bank Holiday 2021: जल्द निपटा लें जरुरी काम, जून में 8 दिन बंद रहेंगे बैंक

पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राय सिंह नरवरिया ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली को छुड़ाने वाले आरोपियों को पकड़ने के लिए देवगढ़ थाना प्रभारी को दिशा निर्देश दिए थे। इसी निर्देशन में देवगढ़ थाना प्रभारी अरुण सिंह कुशवाह ने टीम के साथ मुखबिर की सूचना से दबिश दी। इसी की बदौलत आरोपी सरनाम सिंह पुत्र उम्मेद सिंह सिकरवार और मरैया पुत्र भोलाराम शर्मा को लोहिकपुरा गांव और भरत सिंह पुत्र लाल सिंह को पठानपुरा से गिरफ्तार करने में सफलता हाँसिल मिली है।

दोनों आरोपियों पर 24 घंटे पहले वन विभाग की एसडीओ पर हमला करने के मामले में आरोपी बनाया गया था। जिसमें अभी कुछ आरोपी फरार हैं। जिनकी तलाश की जा रही हैं। इस पूरे मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रायसिंह नरवरिया का कहना हैं कि वन विभाग की एसडीओ पर हमला करने वालों को चिन्हित कर लिया गया है। जिसमें 3 लोगों को दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया है बांकी की गिरफ्तारी के लिए जगह जगह दबिश दी जा रही हैं।

यह भी पढ़ें… Sex Racket : होटल में चल रहा था देह व्यापार, दूसरे राज्य की युवतियों सहित 10 हिरासत में

इसके बाद जो भी कार्यवाही की जाएगी, प्री प्लानिंग के साथ की जाएगी। जिसमें माइनिंग,एसटीएफ, रेवन्यू और पुलिस के साथ मिलकर माफियाओं के खिलाफ दबिश दी जाएगी। जिससे माफिया किसी भी अधिकारी पर हमला न कर सकें।