मुरैना : धार्मिक और पर्यटन का एक बड़ा केंद्र बने शनिमंदिर – केंद्रीय मंत्री तोमर

केंद्रीय मंत्री ने मंदिर के जीर्णोद्धार पर अधिकारियों से की चर्चा

मुरैना, डेस्क रिपोर्ट। जिले की ऐंती पर्वत स्थित विश्व प्रसिद्ध शनि देव मंदिर को बड़े धार्मिक एवं पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया जाये्गा। केन्द्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री एवं मुरैना के सांसद नरेंद्र सिंह तोमर ने इस दिशा में पहल की है। केंद्रीय मंत्री तोमर इस सिलसिले में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शुक्रवार को शनिदेव मंदिर परिसर पहुँचे और मंदिर के जीर्णोद्धार और विकास के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की। साथ ही बैठक में कलेक्टर बी. कार्तिकेयन, जिला पंचायत के सीईओ रोशन कुमार सिंह, एसडीएम, तहसीलदार अजय शर्मा सहित सेवानिवृत्त पूर्व कलेक्टर विनोद शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

यह भी पढ़े…शादी के 10 दिन पहले ही मैनेजर ने लगाई फांसी….

केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि यह मंदिर धार्मिक और पर्यटन का एक बड़ा केंद्र बने। इसी को दृष्टिगत रखते हुए मंदिर के विकास की योजना बनाई गई है। शनि मंदिर में शनि परिक्रमा मार्ग के साथ ही शनि सरोवर और शनि कुंड का निर्माण किया जाएगा। मंदिर के विकास को दो हिस्सों में बांटा गया है। एक आंतरिक और दूसरा बाहरी विकास। आंतरिक विकास के तहत मंदिर परिसर में विकास होगा, जबकि बाहरी विकास के तहत परिक्रमा मार्ग का निर्माण किया जाएगा। जिसमे परिक्रमा मार्ग का केंद्रीय मंत्री तोमर ने निरीक्षण भी किया। जहाँ इसके तहत बिजली सड़क कनेक्टिविटी के अलावा परिक्रमा मार्ग में जन सुविधाएं, दुकानें और खानपान की सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी, ताकि यहां आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों को किसी तरह की परेशानी ना आए।

यह भी पढ़े…दिल्‍ली : गाजीपुर मार्केट में लावारिस बैग में मिला IED विस्फोटक, कंट्रोल ब्लास्ट के साथ किया गया डिफ्यूज

गौरतलब हैं कि वर्तमान में शनि मंदिर के दो परिक्रमा मार्ग हैं। एक 6 किलोमीटर दायरे में है। जबकि दूसरा परिक्रमा मार्ग 21 किलोमीटर लंबा है। परिक्रमा मार्गों का नए सिरे से निर्माण किया जा रहा है। 21 किलोमीटर लंबे परिक्रमा मार्ग में कुछ मंदिर भी है, जिनका भी जीर्णोद्धार किया जाएगा। परिक्रमा मार्ग के दोनों ओर पौधरोपण के कार्य को भी जीर्णोद्धार योजना में शामिल किया गया है। इस शनि मंदिर की गिनती देश के प्राचीन शनि मंदिरों में होती है। यही नहीं इस मंदिर का धार्मिक महत्व भी है, लेकिन बुनियादी सुविधाओं की कमी के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसे देखते हुए केंद्रीय मंत्री ने मंदिर के जीर्णोद्धार का बीड़ा उठाया है।