भोपाल/मुरैना।

मध्य प्रदेश के मुरैला जिले में पुलिस विभाग पर बिजली बिल का करीब 1 करोड़ 40 लाख रुपए का बकाया है। सिटी कोतवाली टीआई कुशल भदौरिया बिजली कंपनी के डीजीएम को थाने बुलाकर उनसे बिल में संशोधन करने के लिए दबाव बनाया था। जिसके बाद विवाद बढ़ गया था। बिजली कंपनी के अधिकारी-कर्मचारियों के संगठन मप्र यूनाइटेड फोरम फॉर पावर इंप्लाइज एवं इंजीनियर्स की ओर से टीआई पर कार्रवाई की मांग की जा रही थी। सोमवार को मुरैना कलेक्टर के साथ यूनाइटेड फोरम की बैठक प्रदेश संयोजक श्री व्ही के एस परिहार जी के नेतृत्व में सम्पन्न हुई। इस बैठक में कलेक्टर ने पुलिस निरीक्षक को लाइन अटैच करने के आदेश दिए हैं साथ ही एक जांच कमेटी भी गठित करने के लिए कहा है।

दरअसल, सिटी थाना टीआई कुशल भदौरिया ने अपने सिपाही भेजकर बिजली कंपनी के डीजीएम आरएस भदौरिया को थान में घंटों बिठाए रखा था। साथ ही उनपर दबाव भी बनाया था कि वह पुलिस विभाग के आने वाले बिजली बिलों को संशोधन करें और लिखित में यह आश्वासन दें तभी उन्हें थाने से जाने दिया जाएगा। इस बात को लेकर बिजली कंपनी के अधिकारी-कर्मचारियों ने गुरुवार को आंदोलन किया। उनकी मांग थी कि निरीक्षक पर कार्रवाई की जाए अन्यथा वह बिजली सप्लाई बंद कर देंगे।