लॉकडाउन के बीच घर मे राशन न होने पर युवक ने किया आत्महत्या का प्रयास

मुरैना| संजय दीक्षित| प्रदेश के मुखिया लॉक डाउन के दौरान जनता को संबोधित करते हुए कहते है कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। उसकी व्यवस्था की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की रहेगी। कलेक्टर प्रियंका दास से सभी वार्डों में सेक्टर अधिकारी नियुक्त किए है जिससे कोई भी गरीब व्यक्ति बिना राशन के भूखा न रहे । इसके लिए सेक्टर अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गयी हैं।लेकिन सेक्टर अधिकारी की लापरवाही से एक ऐसा मामला सामने आया हैं जिसमे युवक के द्वारा परिवार वालों के लिए समुचित राशन की व्यवस्था नही होने के कारण आत्महत्या करने का प्रयास किया।

सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के यादव कोलोनी में टिक्की का ठेला लगाने वाले देवेंद्र पुत्र पाना राठौर उम्र 28 वर्ष ने जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया।जिसके बाद उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल मे भर्ती कराया गया है।देवेंद्र की पत्नी आरती का कहना है कि टिक्की का ठेला लगाकर परिवार का भरण पोषण करते हैं।टिक्की बेचकर जो भी बचता था उससे घर का खर्च चलता था।लेकिन लोक डाउन के बाद घर पर ही बैठे है औऱ भरण पोषण करना मुश्किल हो गया था।कुछ दिन पहले गौ सेवक घर पर राशन दे गए थे,जिसके बाद राशन पूरी तरह खत्म हो गया था फिर आसपास के लोगों से लेकर तीन चार दिन काम चला लिया।बच्चे रो रो कर रोज मांगते हैं कि खाना चाहिए लेकिन खाने की घर मे कोई भी व्यवस्था न होने से देवेंद्र ने आत्महत्या करने का प्रयास किया।उसको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसका उपचार चल रहा है।फिलहाल उसकी स्थिति नियंत्रण हैं।सूचना मिलने के बाद एक कदम मानवता की ओर टीम भी जिला अस्पताल पहुंच गयी और उनके परिवारवालों के लिए राशन की व्यवस्था का इंतजाम किया गया।