कांग्रेस का आरोप वापस लाये बुजुर्गों में से अधिकतर गायब, सीएम से करेगी शिकायत 

इस मामले पर बुजुर्ग थापा ने बताया कि उसे और अन्य लोगो को शिवाजी वाटिका के फुटपाथ से उठाकर क्षिप्रा के पास के गांव में छोड़ा जा रहा था

इंदौर, आकाश धौलपुरे । मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) में बुजुर्गों के साथ निगमकर्मियों द्वारा किये अमानवीय कृत्य को लेकर राजनीति तेज हो चली है। कांग्रेस (Congress) निकाय चुनाव के पहले इस मुद्दे को भुनाना चाहती है लिहाजा, एक दिन बाद कांग्रेस (Congress) के संभावित महापौर पद के उम्मीदवार सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने मैदान सम्भाल लिया है।

दरअसल, शुक्रवार को सामने आई घटना के बाद कांग्रेसी शनिवार सुबह से सक्रिय हो गए और वापस लाये गए बुजुर्गों की तलाश में जुट गए। इसके लिये बाक़ायदा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शहर के सभी 10 रैन बसेरो को छान मारा। इतना ही कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला के नेतृत्व में हर रैन बसेरे में मौजूद लोगों को फल और स्वल्पाहार करवाया गया। कांग्रेस (Congress) की तलाश ढक्कन वाला कुंआ क्षेत्र में स्थित रैन बसेरे में समाप्त हुई जहां उन्हें चार बुजुर्ग मिले जिन्हें निगम कर्मियों द्वारा क्षिप्रा ले जाया गया था।

इधर, कांग्रेस (Congress)को पता चला कि करीब 15 बुजुर्गों को ले जाया गया था तो वे बाकि लोगो की तलाश में फिर से निकल पड़े। इतना ही नही कांग्रेस बकायदा नेपाल से इंदौर आये बुजुर्ग रामबहादुर थापा को साथ ले गई और आईजी हरिनारायणचारि मिश्र को शिकायत कर कहा कि अन्य बुजुर्गों का अपहरण कर लिया गया है। जिसके बाद आईजी ने मामले की जांच का आश्वासन दिया। इधर, इस मामले पर बुजुर्ग थापा ने बताया कि उसे और अन्य लोगो को शिवाजी वाटिका के फुटपाथ से उठाकर क्षिप्रा के पास के गांव में छोड़ा जा रहा था।

इस मामले के सामने आने के बाद पूर्व नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख अलीम और विधायक संजय शुक्ला ने इंदौर निगमायुक्त से बात कर बुजुर्गों के साथ हुई अमानवीयता की शिकायत कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की। तब निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने कहा कि पूरे मामले में विभागीय जांच समिति बनाई गई है जो जांच कर रिपोर्ट पेश करेगी।
कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने मीडिया से बात कर कहा कि बुजुर्गों से अमानवीयता के मामले दोषी हर कर्मचारी और अधिकारी पर कार्रवाई होनी चाहिए। वही उन्होंने कहा कि जो बुजुर्ग कल के बाद नही मिल रहे हैं  उनको लेकर निगम कर्मियों और अधिकारियों पर अपहरण का केस दर्ज किया जाना चाहिए इतना ही नही यदि बुजुर्गों की इंदौर के बाहर मौत हुई हो तो निगम अधिकारियों और कर्मियों पर 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए। कांग्रेस विधायक ने कहा रविवार को सी एम शिवराज  सिंह चौहान इंदौर आने वाले है और कांग्रेसी उनसे मुलाकात कर ज्ञापन सौंपकर मांग करेंगे कि दोषी अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई हो। वही उन्होंने कहा कि इसके बाद भी कार्रवाई नही हुई तो कांग्रेस विरोध स्वरूप मंगलवार को इंदौर बन्द कराएगी।

फिलहाल, बुजुर्गों के मामले में अब कांग्रेस मुखर होकर विरोध पर आमादा  है ऐसे में इस मुद्दे पर आने वाले दिनों में न सिर्फ इंदौर बल्कि प्रदेश में सियासी पारा चढ़ेगा क्योंकि कांग्रेस को बैठे बिठाए निकाय चुनाव के पहले एक मुद्दा मिला है जिसे वो भुनाने की पूरी कोशिश में जुट गई है।