Mohan Cabinet Meeting 2024 : मोहन कैबिनेट की अहम बैठक आज, इन प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी

आज बुधवार को होने वाली मोहन कैबिनेट मीटिंग में कई प्रस्तावों पर मुहर लग सकती है। इसके साथ ही मध्यप्रदेश विधानसभा के ई-विधान प्रोजेक्ट को भी पेश किया जाएगा।

Pooja Khodani
Published on -
Mohan Yadav

Mohan Cabinet Meeting Today 2024 : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आज बुधवार को सीएम मोहन यादव की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक बुलाई गई है। आज कैबिनेट मीटिंग में कई प्रस्तावों पर चर्चा की जाएगी और इन पर मुहर भी लग सकती है। विधानसभा के मानसून सत्र के बाद आज 10 जुलाई को मंत्रालय में बुलाई गई इस बैठक को बेहद अहम माना जा रहा है।

इन प्रस्तावों को लग सकती है मुहर

  • कैबिनेट बैठक में मध्यप्रदेश विधानसभा के ई-विधान प्रोजेक्ट को पेश किया जाएगा।इसके तहत विधानसभा को हाईटेक और पेपरलेस किया जाएगा, जिसमें 20 से 25 करोड़ खर्च होने का अनुमान है।
  • इसके तहत विधानसभा में सभी काम ऑनलाइन होंगे। सदस्यों को सदन में प्रश्नकाल के दौरान पूछे जाने वाले प्रश्न भी आनलाइन स्क्रीन पर दिखाई देंगे। सभी सदस्यों के टेबल पर स्क्रीन लगाई जाएगी। इसको लेकर संसदीय कार्य मंत्रालय, विधानसभा सचिवालय और संसदीय कार्य विभाग के बीच अनुबंध भी हो चुका है।
  • मध्यप्रदेश प्रशासनिक अकादमी में खाली पदों पर भर्ती के लिए भी कैबिनेट के सदस्यों की मंजूरी लगेगी। इसके अलावा कई और विभागों के प्रस्ताव को कैबिनट में रखा जाएगा, जिस पर सहमति बन सकती है।
  • सूत्रों की मानें तो कैबिनेट के तुरंत बाद सीएम मोहन यादव हाल ही में मंत्रिमंडल में शामिल हुए रामनिवास रावत को विभाग आवंटित करने की घोषणा कर सकते हैं। उन्हें विभागीय दायित्व भी दे दिया जाएगा। अनुमान है कि मुख्यमंत्री के पास जो विभाग हैं, उन्हीं में से एक या दो विभाग रावत को दिए जा सकते हैं।
  • वर्तमान में डॉ. यादव के पास सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी), गृह, जनसंपर्क, जेल, खनिज साधन, विमानन, औद्योगिक नीतियां और निवेश संवर्धन, नर्मदा घाटी विकास, लोक सेवा प्रबंधन, नर्मदा घाटी विकास, प्रवासी भारतीय समेत अन्य विभाग हैं। इनमें से खनिज साधन और औद्योगिक नीतियां और निवेश संवर्धन विभाग में से किसी एक विभाग की जिम्मेदारी रावत को सौंपी जा सकती है।
  • प्रदेश में 15 दिन के लिए तबादलों से बैन हटाया जा सकता है। इसके तहत प्रदेश के कई आईएएस, आईपीएस अफसरों को इधर से उधर किया जा सकता है।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News