नक्सलियों ने फिर दी चुनौती, सप्ताह में तीसरी बार सड़क निर्माण कर में लगी मशीनें जलाई

नक्सली अपने मंसूबों को पूरा कर पुलिस से आगे की रणनीति पर काम करने लगे है।

बालाघाट, सुनील कोरे। जिले में पुलिस और सुरक्षाबलों की लगातार सर्चिंग के बावजूद नक्सली (Naxalites) आगजनी की घटनाओं को अंजाम देकर जिले में दहशत फैला रहे हैं। बीती रात नक्सलियों ने एक सप्ताह के भीतर तीसरी बड़ी वारदात को अंजाम देकर रूपझर थाना के बिठली चौकी अंतर्गत पाथरी मार्ग पर मंडवागांव में सड़क किनारे निर्माण कार्य के बने डामर प्लांट, वहां रखी जेसीबी, रोड रोलर और मोटर सायकिल को आग लगा दी।

नक्सलियों ने 10 दिसंबर को तीनों राज्य मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ बंद का आव्हान किया है, नक्सली बैनर और पोस्टर के माध्यम से अपने नेता मिलिंद तेलबुंडे की मौत का विरोध कर रहे हैं, जिससे लगता है कि गढ़चिरौली की घटना के बाद बौखलाये नक्सली, बालाघाट को टारगेट कर रहे हैं, बीते 4 से 8 दिसंबर के दौरान नक्सलियों ने जिले के तीन अलग-अलग थाना क्षेत्र में निर्माण कार्यो में लगी मशीनरी में आगजनी की घटना को अंजाम दिया है।

ये भी पढ़ें – मुरैना में अपराधियों के हौसले बुलंद, बीच बाजार प्रॉपर्टी डीलर को मारी गोली

खास बात यह है कि तीनों ही स्थानों पर बैनर और पर्चे उसी तरह लटकाये और फेंके गये हैं। जिससे साफ है नक्सली अपने नेता की मौत का विरोध और बंद आह्रवान को सफल करने अपनी आमद दर्ज कराकर दहशत फैला रहे है। वहीं लगातार एक के बाद एक घटनाओं के होने और इसके बारे में कोई इनपुट पुलिस को नहीं मिलने से पुलिस के मुखबिर और सूचना तंत्र पर भी सवाल खड़े हो रहे है, हालांकि हर बार की तरह इस घटना के बाद भी पुलिस सुरक्षा और सर्चिंग की बात कर रही है।

 ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : चांदी लुढ़की, ये है सोने की कीमत, जान लीजिये ताजा भाव

नक्सलियों के लगातार घटना किये जाने से नक्सली क्षेत्र में काम करने वाले ठेकेदारों में भय का माहौल देखा जा रहा है, हालांकि ठेकेदार खुलकर कुछ नहीं बोल रहे हैं लेकिन ऐसी चर्चा सुनाई देने लगी है कि ठेकेदार नक्सलियों की घटना के बाद काम को लेकर चितिंत हैं, हालांकि गत दिवस ही कानून व्यवस्था की बैठक में नक्सली क्षेत्र में होने वाले कार्यो में सुरक्षा का भरोसा दिलाया गया था, बावजूद इसके नक्सली अपने मंसूबों को पूरा कर पुलिस से आगे की रणनीति पर काम करने लगे है।

ये भी पढ़ें – MP School : ऑनलाइन कक्षाओं को लेकर बदले नियम, शुरू हुई नई व्यवस्था, स्कूलों को सख्त निर्देश

यहाँ बता दें कि 8 दिसंबर की रात रूपझर थाना अंतर्गत बिठली चौकी के पाथरी मार्ग पर मांडवा गांव में स्थित डामर प्लांट और वहां खड़ी जेसीबी, रोडरोलर और मोटर सायकिल को 12 से 15 की संख्या में आये सशस्त्र नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया। बताया जाता है कि इस दौरान वहां कुछ मजदूर थे, जिनके पास से मोबाइल लेकर नक्सलियों ने उन्हें भगा दिया। हालांकि इस दौरान किसी अन्य वाहन के आने के बाद उसको सकुशल भगा देने की बात भी कही जा रही है, लेकिन ऐसा संभव है, ऐसा प्रतीत नहीं होता है। बहरहाल इस घटना के बाद एक बार फिर पुलिस ने जिले में सुरक्षा को बढ़ाकर सर्चिंग तेज कर दी है।

ये भी पढ़ें – देखें वीडियो : बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर का इंजन अचानक हुआ था बंद !

गौरतलब हो कि इससे पूर्व 4 दिसंबर की सुबह बिरसा थाना अंतर्गत कोरका में सड़क निर्माण में लगी रोडरोलर मशीन को नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया था। वहीं 6 दिसंबर की रात किरनापुर थाना अंतर्गत किन्ही चौकी से लगभग 15 किलोमीटर दूर चल रहे बोदलझोला से कलकत्ता के बीच बन रही सीसी सड़क निर्माण कार्य में लगे ट्रेक्टर और मिक्सर मशीन को नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया था और 8 दिसंबर की रात फिर सशस्त्र नक्सलियों ने बैनर और पर्चे टांगकर प्लांट और मशीनों को जला दिया।

नक्सलियों ने फिर दी चुनौती, सप्ताह में तीसरी बार सड़क निर्माण कर में लगी मशीनें जलाई

नक्सलियों ने फिर दी चुनौती, सप्ताह में तीसरी बार सड़क निर्माण कर में लगी मशीनें जलाई