bjp-leader-encroachment-on-government-land-

नीमच। कांग्रेसजनों में एकता का अभाव हमेशा देखा गया है। आपसी फूट के चलते विरोधी लोग हमेशा फायदा उठाते हैं ।अब जब कि कांग्रेस के पक्ष में माहोल है व कांग्रेस की सरकार होने के बाद भी नगर पालिका में बैठे जिम्मेदार अधिकारियों एवं कर्मचारियों को शासन के नियम विरुद्ध किए गए पक्के अतिक्रमण को तोड़ देने पसीना आ रहा है । वही कांग्रेस संगठन में बड़े-बड़े पदों पर बैठे कांग्रेस के नेता व जनप्रतिनिधि भी इंदिरा नगर के पास  स्थित भगवानपुरा चौराहे पर  अतिक्रमण किए बैठे भाजपा के छूट भैये नेता के अतिक्रमण को तोड़ने में नाकाम साबित हो रहे हैं। जबकि अवैध रूप से शासन की करोड़ो रुपये की जमीन पर किया गया अतिक्रमण हटाना नगर पालिका सहित जिला प्रशासन को अधिकार है। लेकिन उसके बाद भी उसका अतिक्रमण नहीं हटना शासन प्रशासन में नगर पालिका के जिम्मेदार की अंनदेखी तो सामने आ ही रही है। वही अतिक्रमणकरता के हौसले बुलंद हो रहै है। यह कांग्रेस नेताओं की कमजोरी साबित कर रहा है। कांग्रेसजन आज दिन तक भाजपा नेता की अवेध गुमटी का बाल भी बांका नहीं कर पा रहे हैं।

यदि कॉग्रेस के किसी नेता ने अतिक्रमण किया होता तो अब तक कई बार टूट चुका होता-

जबकि इस जगह कांग्रेस के किसी नेता व कार्यकर्ता का अतिक्रमन होता तो भाजपा के लोग शासन में नहीं होते हुए भी उसकी गुमटी को हटवा देते, और अतिक्रमन पर कब से कार्रवाई हो चुकी होती। लेकिन यहां कांग्रेस के लोग कुछ भी नहीं कर पा रहे हैं। जो बड़ी विचारणीय बात है । इससे लगता है कि वर्तमान में कांग्रेस के नेता व जनप्रतिनिधियों का भी भाजपा के उस अवैध अतिक्रमणकरता नेता को संरक्षण मिल रहा है । 

इस जगह यदि किसी गरीब की अतिक्रमण होता अब तक उसके अवेध अतिक्रमण को तोड़ उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी हो चुकी होती- यदि इस जगह कोई गरीब होता तो उसके अतिक्रमण को तोड़ने के लिए जहां शासन, प्रशासन ,नगर पालिका पूरी दमदारी से लगकर उसका अतिक्रमण हटा देता।वही उस गरीब के द्वारा आनाकानी करने पर उसके विरुद्ध पुलिस कार्रवाई भी हो चुकी होती।  लेकिन भाजपा के इस छूट भैये नेता ने भगवानपुरा चौराहे पर करोड़ों रुपए की शासकीय भूमि पर कर रखा अतिक्रमण आज तक नहीं हटा पाए हैं । 

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार होने के बाद नहीं हट पा रहा अतिक्रमण, इससे लगता है उस छुट भइए भाजपा नेता का दम मुख्यमंत्री से भी बढ़कर है। कांग्रेस की सरकार प्रदेश मे है उसके बाद भी उसका अतिक्रमण नहीं तोड़ा जा रहा है इससे लगता है कि उसकी ताकत व उसको संरक्षण देने वाले नेताओं की ताकत प्रदेश कांग्रेस के शासन के मुख्यमंत्री से भी बढ़कर लगती है। कांग्रेस नेता या यू कहें कुछ कांग्रेस नेता का उस छूट भइए भाजपा के नेता को संरक्षण दिए हुए लगता है।

जिस प्रकार से कॉग्रेस के पार्षद मोहन लोकस् व योगेश प्रजापति ने जहां छोटे से लेकर ऐसे बड़े अधिकारी तक करोड़ों रूपये की शासकीय भूमि पर हुए अतिक्रमण की शिकायत कर रखी है वही नगरपालिका के सम्मेलन में इस बात को विशेष रुप से उठाया जा रहा है जहां नपा अध्यक्ष राकेश पप्पू जैन व् सीएमओ की चुप्पी अतिक्रमण करता के हौसले बुलंद कर रही है वही कांग्रेस नेताओं वह जिला संगठन के द्वारा इस और कोई कार्यवाही नहीं करना यही दर्शा रहा है कि कॉग्रेस को काम करना नहीं आता है।