kailash-vijayvargiye-will-visit-neemuch

जिले में सबसे कमजोर प्रत्याशी जावद विधानसभा क्षेत्र का माना जा रहा है। अभी तीन दिन पहले मुख्यमंत्री ने सभा की और इसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव का दौरा कार्यक्रम है। दरअसल, कांग्रेस प्रत्याशी का बढ़ते जन समर्थन को देखते हुए भाजपा के बड़े नेताओं का दौरा प्रारंभ कर दिया। 

नीमच। श्याम जाटव।

भाजपा विधायक ओमप्रकाश सखलेचा को चौथी बार सीट निकालने में ऐड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ रहा है। दूसरी तरफ कांग्रेस प्रत्याशी राजकुमार अहीर का प्रचार जोर पकड़ चुका है और जनता ने अबकी बार बदलाव का मन बना लिया। इसी वजह से 20 नवंबर को भाजपा प्रत्याशी सखलेचा के समर्थन में राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की जावद व सरवानिया महाराज में दो आमसभा होंगी।

-निर्दलीय समंदर की निकली हवा

इंदौर के कारोबारी व निर्दलीय उम्मीदवार समंदर पटेल धनबल और जातिगत समीकरण के आधार पर मैदान में है, लेकिन मतदाताओं ने निर्दलीय को बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना लिया है। इसी वजह से क्षेत्र में चुनाव प्रचार के दौरान कोई खास समर्थन नहीं मिल रहा है। पटेल अपने धाकड़ समाज की राजनीति तक सिमट गए। 

-विधायक के सामने अहीर भारी

कांग्रेस प्रत्याशी अहीर को प्रत्येक गांव में समर्थन मिल रहा है और उनके साथ कार्यकर्ताओं की लंबी फौज चल रही है। चुनाव प्रचार का मैनेजमेंट बेहतर तरीके से किया जाने लगा। इसी से निर्दलीय प्रत्याशी पटेल और भाजपा प्रत्याशी सखलेचा की राह आसान नहीं दिखाई दे रही हैं। विधायक सखलेचा को चुनाव में पटेल से कम अहीर के सामने चुनौती देने में फैल हो गए।

-कांग्रेस के स्टार प्रचारक का इंतजार

भाजपा की तुलना में कांग्रेस का कोई स्टार प्रचारक क्षेत्र में नहीं आया है। इसके बावजूद जिला और ब्लॉक स्तर के नेता ही मैदान संभाल रहे है और कार्यकर्ताओं की एकजुटता भी सामने आने से भाजपा-निर्दलीय की हवा खिसकने लगी। अभी तक भाजपा से ज्यादा कांग्रेस का माहौल ज्यादा दिख रहा है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा होने लगी चौथी पारी पार करना पार्टी के लिए मुश्किल है।

-रौचक होंगे परिणाम

जानकारों की माने तो जावद विधानसभा का चुनाव परिणाम रौचक होगा। अभी मतदाताओं की कोई नब्ज नहीं टटोल पाया। सबको 28 नवंबर का बेसब्री से इंतजार है। सत्ता के विपरित परिणाम आएं तो कांग्रेस की बल्ले-बल्ले हो सकती हैं। वहीं सोशल मीडिया पर रोज विधायक सखलेचा के विरोध की बातें सामने आने लगी। इसी को ध्यान में रखकर भाजपा लामबंद होने लगी। ये लामबंदी चुनाव में क्या गुल खिलाती है ये तो परिणाम आने के बाद ही पता चल सकेगा।

(नीमच से श्याम जाटव की रिपोर्ट मोबाइल नंबर 9425106959)