Neemuch News: पुलिस ने करवाई राकेश जोशी की भूख हड़ताल समाप्त, जिला अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती

नीमच कलेक्ट्रेट कार्यालय में पिछले 24 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे लापता बेटी के पिता राकेश जोशी को, देर रात्रि में नीमच पुलिस द्वारा गाड़ी में बिठा कर जिला अस्पताल लाया गया और उनका अनशन तुड़वाया गया।

नीमच, कमलेश सारडा। नीमच कलेक्ट्रेट कार्यालय में पिछले 24 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे लापता बेटी के पिता राकेश जोशी को, देर रात्रि में नीमच पुलिस द्वारा गाड़ी में बिठा कर जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां पर पीड़ित को नाश्ता ओर खाना खिला कर भूख हड़ताल खत्म करवाई गई। दरअसल कल दोपहर में जिला अस्पताल के डॉक्टर द्वारा राकेश जोशी को आईसीयू में भर्ती करने की सलाह दी गई थी। क्योंकि राकेश जोशी की पिछले 2-4 दिनों से तबीयत बिगड़ रही थी।

यह भी पढ़ें – LPG Cylinder Price Hike: कमर्शियल सिलिंडर की कीमतों में ₹250 की बढ़ोतरी, जाने कहाँ क्या है दाम

वहीँ लगातार डॉक्टर इन्हें चेक करने के लिए भी अनशन स्थल पर पहुंच रहे थे। फिलहाल लापता बेटी के पिता राकेश जोशी जिला अस्पताल में आईसीयू में हैं। जहां पर उनकी स्थिति सामान्य है। गौरतलब है कि लापता युवती नेहा जोशी मामले में भूख हड़ताल पर बैठे पिता राकेश जोशी के समर्थन में आम जनमानस जुड़ते जा रहे थे।

यह भी पढ़ें – WhatsApp का यह नया फीचर आपके वॉइस मैसेज को और मजेदार बना देगा

अस्पताल में जब एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ की टीम राकेश जोशी का बयान ले रही थी तो पुलिस ने हमारे टीम का मोबाइल भी छीनने की कोशिश की। क्योंकि राकेश जोशी के अनुसार उन्हें जबरदस्ती लाया गया है हॉस्पिटल में। आपको बता दें कल ही विहिप बजरंग दल व सर्व समाज द्वारा एसपी कार्यालय का घेराव कर नेहा जोशी को ढूंढ निकालने व मनासा के टीआई के एल डांगी व एसआई मोहम्मद आज़ाद को निलंबित करते को लेकर विरोध प्रदर्शन कर नीमच जिला बंद चेतावनी दी गई थी। बता दें कि मामला 22 मार्च का है।

यह भी पढ़ें – मिस यूनिवर्स हरनाज संधू एक दुर्लभ बीमारी से पीड़ित है जिसका कोई इलाज नहीं

इसके पहले नीमच विधायक दिलीप सिंह भी उन्हें समझने पहुंचे थे जिसे राकेश सिंह ने खूब खरी खोटी सुनाई थी। उसके बाद उन्होंने कलेक्टर की बात नहीं मानी अंत में एसआईटी का टीम गठन किया गया। सभी आरोपी गिरफ्त में हैं लेकिन उनकी बेटी का अभी भी कोई सुराग नहीं मिला है। राकेश जोशी ने मनासा थाना प्रभारी कन्हैया लाल डांगी और एसआई आजाद मोहम्मद पर रुपए लेकर मामला रफा-दफा करने का आरोप लगाया और उनके निलंबन की मांग की।