Neemuch News : सफेद रंग में छुपा मौत का काला कारोबार, पढ़े पूरी खबर

आखिर कार कौन वो सफेद मौत के सौदागर है जो पर्द के पीछे से इस काले कारोबार को फैला रहे है।

नीमच, कमलेश सारडा। अफीम उत्पादक मालवा-मेवाड़ के नीमच (neemuch news) जिले में सफेद मौत का कालाकारोबार एक बार फिर सुर्खियों में है, क्योंकि नीमच जिले के अधिकाश युवाओं के खून में ड्रग्स दौड़ रहा है यहां शहर से लेकर गांव तक अब ये सफेद मौत का काला कारोबार अपने पांव जमा चुका है इसकी पुष्टि इस बात से लगाई जा सकती है कि नीमच पुलिस ने जिस युवा को गिरफ्तार किया है वो नीमच शहर से कई दूर सिंगोली पठार क्षैत्र का है ऐसे में अब सवाल ये बड़ा खड़ा होता है कि आखिर कार कौन वो सफेद मौत के सौदागर है जो पर्द के पीछे से इस काले कारोबार को फैला रहे है।

यह भी पढ़े…आज होगा भव्य महाकाल लोक का लोकार्पण, तस्वीरों में देखें झलकियां

अगर जानकारों की माने तो एमडी ड्रग्स के नशे की लत नीमच के कई बड़े बुकियों ने शहर के युवाओं को लगाई है क्योंकि ये हाईप्रोफाइल लाइफ जीने वाले बुकी देश-विदेश की यात्राओं पर ऐशोआराम करने के लिये जाते रहे है और वहां एमडी ड्रग्स जैसे मादक पदार्थे का सेवन करने की खबर इनकी आम रही है ऐसे में अंदेशा लगाया जा सकता है कि इन्होने ही इस एमडी डग्स के काले कारोबार को यहां जमाया है जिसमें तीन बड़े बुकियों के नाम आम है पहला चंडी, सदाम पीयूष, बिट्टू है जो अक्सर देश विदेश घुमने गये है और इनकी ड्रग्स लेने की खबरें आम चर्चा का विषय रही है ऐसे पुलिस को इन पर शिंकजा कसते हुए इनसे कड़ी पूछताछ करनी चाहिए।

यह भी पढ़े…Government Job 2022 : यहाँ 349 पदों पर निकली है भर्ती, जानें आयु-पात्रता, 31 अक्टूबर से पहले करें आवेदन

वही जानकारों ने तो यहां तक बताया कि अगर नीमच पुलिस व जांच एजेसिंया इनके पासपोर्ट की जांच करें तो कई चौका देने वाले खुलासे पुलिस के हाथ लग सकते है कि एक साल में ये नामचीन बुकी कितनी बार विदेश गये है और वहां कौन-कौन सी आलीशान होटल में ठहरे है जिससे भी साफ हो जायेगा की इस ड्रग्स के काले कारोबार को फैलाने में इनका कितना हाथ रहा है कौन है चंडी, सदाम पीयूष, बिट्टू- चंडी शहर का नामी क्रिकेट बुकी है जो अक्सर पान की गुमटीयों व छोटी-मोटी होटल पर घुमता देखा जाता है साथ ही इसने अपना नेटवर्क लग्जरी फार्म हाउस के जरिए एमडी ड्रग्स और क्रिकेट के सट्टे को फैला रखा है वही अगर पीयूष की बात की जायें तो इसने ऑटो डील की दुकान के बहाने एक दुकान के काले शीशों के जरिए इस पूरे क्रिकेट और अवैध धंधे को ऑपरेट करनी की दुकान के रूप में खोल रखा है ताकि किसी को कोई शंक ना हो वही दूसरी तरफ ये पूरे शहर में नंदन के जरिए ब्याज पर रूपये देने का काम भी करता आया है जिससें भी कई लोग परेशान है वही सदाम इन सभी छोटो मोटो को ड्रग्स उपलब्ध कराने का काम करता है जिसमें बिट्टू भी शामिल है।