Neemuch पुलिस को मिली बड़ी सफलता, गुलाब गैंग के चार बदमाशों को किया गिरफ्तार

कृषि उपज मंडी में पिछले कई समय से उपज की चोरी का मामला सामने आ रहा था। इस चोरी की घटना को अंजाम गुलाब गैंग के सदस्यों द्वारा दी जा रही थी।

Neemuch

Neemuch News: मध्य प्रदेश के नीमच जिले में अपराधियों पर नकेल कसने के लिए पुलिस अधीक्षक अंकित जायसवाल के मार्गदर्शन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एन.एस. सिसोदिया और नगर पुलिस अधीक्षक अभिषेक रंजन के द्वारा अभियान चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दरअसल, पुलिस ने लाल गुलाब गैंग के चार अरोपियों को पकड़ने में कामयाबी हासिल हुई है।

काफी दिनों से तलाश कर रही थी पुलिस

आपको बता दें नीमच जिले के कृषि उपज मंडी में पिछले कई समय से उपज की चोरी का मामला सामने आ रहा था। इस चोरी की घटना को अंजाम लाल गुलाब गैंग के सदस्यों द्वारा दी जा रही थी। वहीं, इन गिरोह के सदस्यों को काफी दिनों से पुलिस को तलाश थी, जिसमें पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। बघाना पुलिस की सक्रियता के चलते गिरोह के चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया।

दबिश देकर आरोपियों को किया गिरफ्तार

बघाना पुलिस के लाल गुलाब गैंग के पकड़े गए आरोपियों में फरहान पिता हुसैन खां उम्र 30 साल निवासी स्कीम नंबर 8 बघाना, समीर उर्फ उल्लू उर्फ सुल्तान पिता रशीद उम्र 25 साल निवासी पठारी मोहल्ला बघाना, साबिर पिता असलम पठान उम्र 30 साल निवासी स्कीम नंबर 8 बघाना और इरफान उर्फ झाड़ू पिता रफीक खां उम्र 22 साल निवासी कब्रिस्तान रोड बघाना शामिल हैं। इन चोरों को पुलिस द्वारा दबिश देकर गिरफ्तार किया गया है।

नीमच से कमलेश सारडा की रिपोर्ट


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News