Neemuch News: फायरिंग कांड का मोस्ट वांटेड इनामी बदमाश गिरफ्तार, चार महीने से फरार था आरोपी

फायरिंग कांड के बाद बदमाश उत्तराखंड, राजस्थान, महाराष्ट्र आदि राज्यों में फरारी काट रहा था, लेकिन आखिरकार नीमच पुलिस ने बदमाश को गिरफ्तार कर लिया।

neemuch

Neemuch News: मध्य प्रदेश की नीमच पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। दरअसल, जिले के बड़े व्यवसायी की हत्या के नीयत से फायरिंग कांड में चार महीने से फरार चल रहे एक बदमाश की पुलिस को तलाश थी, जिसे पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। आपको बता दें आरोपी अर्पित उर्फ लक्की सिंघल फायरिंग कांड से लगातार फरारी काट रहा था।

व्यापारी पर की थी अंधाधुंध फायरिंग

गौरतलब है कि फरवरी महीने में नीमच जिले के मुख्य बाजार सीआरपीएफ रोड पर कार से अपने घर जा रहे व्यवसायी अशोक अरोरा पर सामने से एक कार में आये बदमाशों ने हत्या की नीयत से ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। हालांकि अरोरा के पीछे ही अलग कार में उनके निजी गार्ड्स थे। इस दौरान आमने सामने फायरिंग हुई, जिसमें अशोक अरोरा बच निकले, जबकि एक हमलावर बाबू फ़क़ीर की गोली लगने से मौत हो गई थी।

20 हजार रूपए का रखा इनाम

पुलिस ने जब जांच की तो अशोक अरोरा की हत्या की सुपारी 8 लाख रुपये में तय होने की बात सामने आई। इस साजिश में शामिल कुख्यात तस्कर बाबू सिंधी सहित कुल 9 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जबकि साजिश रचने वाला बदमाश अर्पित उर्फ लक्की सिंघल फरार हो गया था। आरोपी लक्की पर पुलिस ने 20 हजार रूपये का इनाम का ऐलान भी किया था।

न्यायालय में किया गया पेश

फायरिंग कांड के बाद बदमाश अर्पित उर्फ लक्की सिंघल ने उत्तराखंड, राजस्थान, महाराष्ट्र आदि राज्यों में फरारी काट रहा था, लेकिन इंदौर से नीमच के बीच आखिरकार वह पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया। नीमच एसपी अंकित जायसवाल ने बताया कि आरोपी लक्की सिंघल की भूमिका इस वारदात को अंजाम देने की प्लानिंग, शूटरों को वाहन और हथियार उपलब्ध कराने, शराब व्यवसायी की रैकी कर बदमाशों तक जानकारी पहुंचाने की थी। फिलहाल, आरोपी को न्यायालय में पेश कर रिमांड मांगा जा रहा है।

नीमच से कमलेश साराडा की रिपोर्ट


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।