पार्षद अपहरण मामले में अब नई कहानी आई सामने, जानें

राजस्थान के गंगरार में नयागांव के नवनिर्वाचित पार्षद ने खुद के अपहरण और मारपीट की रचि साजिश,होटल के सीसीटीवी फुटेज ने खोले राज, होटल की खिडकी से नशे में धुत्त दिनेश धनगर गिर गया था

नीमच, कमलेश सारडा। चित्तोडगढ जिले के गंगरार में एक होटल में नीमच (Neemuch) जिले के नयागांव नगर परिषद के नवनिर्वाचित पार्षद दिनेश धनगर मामले में अब नई कहानी सामने आई है पहले कथित रूप से अपहरण और मारपीट का मामले में सीसीटीवी कैमरे में कई खुलासे हुए है। पार्षद दिनेश धनगर को किसी ने तीसरी मंजिल से फेंका नहीं था, बल्कि खुद खिडकी से गिर गया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया था।

सूत्र बताते है कि 24-25 जुलाई को होटल में दिनेश धनगर ने जमकर शराब पी ली थी। नशे में धुत्त दिनेश धनगर खिडकी से नीचे गिर गया और उसका पैर फ्रेक्चर हो गया। जिसका उदयपुर गीताजंली अस्पताल में उपचार चल रहा है। इस घटना को अपहरण और मारपीट का बताकर पुलिस को गुमराह किए जाने का प्रयास किया जा रहा है वहीं राजनैतिक द्वेषता रखकर अन्य लोगों को फंसाने का खेल भी शुरू हो गया है।

गंगरार पुलिस की प्रारंभिक जांच में यह खुलासा हुआ है कि नव निर्वाचित पार्षद दिनेश धनगर का किसी ने अपहरण नहीं किया और न ही उसके साथ मारपीट हुई। होटल में आराम से टहलते हुए नजर आ रहे है। वह उसके साथियों से हंसी मजाक करता हुआ भी दिखाई दे रहा है। उसके साथी उसके ही कई साथी थे। शराब पीते हुए वीडियो भी सामने आए है। कुछ वीडियो में दिनेश धनगर शराब के नशे में नाचते हुए दिखाई दे रहे है। राजस्थान पुलिस को भी अपहरण की कहानी गले नहीं उतर रही है। पुलिस को होटल के सीसीटीवी फुटेज में अपहरण और मारपीट के कोई साक्ष्य नहीं मिले है।*

भाजपा के पास पर्याप्त बहुमत है तो वे अपहरण क्यों करेंगे
नयागांव नगर परिषद में 7 कांग्रेस समर्थित पार्षद जीतकर आए थे। इसमें दिनेश धनगर शामिल है। वहीं भाजपा समर्थित 4 पार्षद, एक बसपा, तीन निर्दलीय पार्षद चुनाव जीते है। कुछ दिनों पूर्व कांग्रेस के समर्थित पार्षद मुकेश जाट ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते हुए भाजपा का दामन थाम लिया। वहीं 3 निर्दलीय पार्षद भी भाजपा में आ गए। इस प्रकार भाजपा के पार्षदों की संख्या आठ हो गई। वहीं कांग्रेस के पार्षदों की संख्या घटकर छह रह गई। नयागांव परिषद में भाजपा समर्थित पार्षदों का बहुमत हो गया है। कांग्रेस की तरफ से दिनेश धनगर नगर परिषद अध्यक्ष का दावेदार बताया जा रहा है वहीं भाजपा की तरफ से मुकेश जाट है। जब भाजपा के पास स्पष्ट बहुमत है तो वे दिनेश धनगर का अपहरण क्यों करेंगे। जिस मुकेश जाट पर अपहरण, मारपीट के आरोप लगाया जा रहे है, वह भाजपा समर्थित पार्षदों के साथ नाथद्वारा में है।*

ये बिंदु खोल रहे है फर्जीवाडे की कहानी
घायल दिनेश धनगर आईसीयू में भर्ती है, हडडी में फ्रेक्चर बताया जा रहा है। दिनेश धनगर की कहानी के अनुसार उसका उदयपुर से अपहरण किया और गंगरार लेकर आए और तीन दिनों तक होटल के एक कमरे में बंधकर बनाकर रखा, जबकि होटल के सीसीटीवी फुटेज में दिनेश धनगर अपनी मर्जी से आते आते नजर आ रहे है, कोई जोर जबरस्ती भी होते हुए नहीं दिख रही है। दिनेश धनगर के साथ में उसके कई साथी भी है, जिनके मोबाईल चालू है। किसी ने भी पुलिस को सूचना क्यों नहीं दी। होटल से लेकर उदयपुर तक के सीसीटीवी फुटेज में जबरदस्ती गाडी में बैठाने के कोई प्रमाण नहीं मिले है। खिडकी से गिरने के बाद अपहरण और मारपीट की कहानी अचानक कैसे प्रकट हो गई। भाजपा का बहुमत बनता देख प्रतिद्वंदी को फंसाने का खेल सामने आया है,ताकि मुकेश जाट सहित भाजपा पार्षद अपहरण की कहानी में उलझकर रह जाए।

खिडकी से गिरा है दिनेश धनगर, अपहरण को कोई साक्ष्य नहीं मिले
गंगरार थाना चित्तोडगढ के थानाधिकारी शिवराम मीणा ने बताया कि नयागांव निवासी दिनेश धनगर एक होटल की खिडकी से नीचे गिर गया था, जिससे वह घायल हो गया था। अपहरण और मारपीट के कोई साक्ष्य नहीं मिले है। जिस होटल में धनगर ठहरा हुआ था, उसके सीसीटीवी फुटेज में अपहरण की घटना सामने नहीं आई है। जहां से अपहरण होना बताया जा रहा है उस जगह का थाना क्षेत्र अम्बामाता थाना उदयपुर आता है, हमने बयान लेकर जांच के लिए फाईल वहां भेज दी है।