अब पूर्व मंत्री के विरोध में उतरे अधिकारी-कर्मचारी संगठन, FIR की मांग, ये है मामला

अधिकारी-कर्मचारी संगठन ने स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. उत्तम यादव और उनकी टीम के साथ की गई अभद्रता के खिलाफ शिकायत दर्ज कर सार्वजनिक रूप से माफी मांगी जाने की मांगी की है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। बुधवार को राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र में स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. उत्तम यादव के साथ कथित तौर पर हुई गाली-गलौच और अभद्रता के मामले में नया मोड़ आ गया है। जहां कल स्वास्थ्य अधिकारी ने विधायक जीतू पटवारी के खिलाफ शिकायत न करने का आवेदन दिया था लेकिन मामला उलट हो गया अब निगम अधिकारी के बचाव में निगम अधिकारी कर्मचारी संगठन उतर गया और पुलिस से आवेदन के माध्यम से मांग की गई है कि विधायक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए।

अब पूर्व मंत्री के विरोध में उतरे अधिकारी-कर्मचारी संगठन, FIR की मांग, ये है मामला

ये भी पढ़ें- कांग्रेस को आई युवाओं की याद, राष्ट्रीय प्रवक्ता निकली अच्छे वक्ताओं की तलाश में

अब कांग्रेस विधायक एवं पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के खिलाफ थाना राजेंद्र नगर में नगर निगम अधिकारी एवं मजदूर कर्मचारी संगठन ने स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. उत्तम यादव एवं उनकी टीम के साथ की गई अभद्रता के खिलाफ देर शिकायत दर्ज कराई और मांग की गई कि विधायक द्वारा सार्वजनिक रूप से माफी मांगी जाए और यदि उन पर एफआईआर भी दर्ज की जाए।

दरअसल, इन्दौर के राजेंद्र नगर थाने पर कर्मचारी एवं अधिकारियों ने मध्यप्रदेश राज्य सफाई कर्मचारी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष प्रताप करोसिया के नेतृत्व में प्रदर्शन करते हुए जीतू पटवारी के खिलाफ थाने पर एफआईआर के लिए आवेदन दिया है। वही कल शिकायत न करने की इच्छा जता चुके डॉक्टर उत्तम यादव ने कहा कि मैं कल रिपोर्ट लिखाता लेकिन कुछ परिस्थितियां ऐसी बन गई थी जिसके चलते रिपोर्ट नहीं लिखा पाया था। वही आज कर्मचारी संगठन के साथ पुनः थाना राजेन्द्र नगर आया हूं और विधायक जीतू पटवारी के विरुद्ध बदसलूकी अपशब्दों का प्रयोग शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने संबंधित आवेदन दिया है।

ये भी पढ़ें- Sex Racket : सलून की आड़ में चल रहा था रैकेट, पुलिस की कार्रवाई, आपत्तिजनक सामान के साथ महिला गिरफ्तार

वही प्रताप करोसिया ने कहा कि पूरे 16 श्राद्ध में कोई भी अधिकारी 16 दिन तक जीतू पटवारी का फोन नहीं उठाएगा ये ही उनके लिये एक बेहतर सबक होगा क्योंकि पूर्व में शिक्षा मंत्री रह चुके पटवारी को इस बात का अहसास होना चाहिए कि देश में नम्बर 1 बनाने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों के साथ कैसा व्यवहार किया जाना चाहिये। राजेंद्र नगर थाना पर आवेदन प्रस्तुत करते समय निगम निगम कर्मचारी और अधिकारियो ने बड़ी संख्या में एकत्रित होकर कांग्रेस विधायक में खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।