वन विहार में अब पर्यटकों को सैर नहीं करवाएगा ये हाथी, जंजीरों से बांधकर रखने के मिले निर्देश, ये है पूरा मामला

भोपाल (Bhopal) के वन विहार (Van Vihar) से हाल ही में एक खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि जिस हाथी (Elephant) ने अपने ही महावत बुधराम रोतिया को कुचलकर मारा था अब वह हाथी पर्यटकों को सैर नहीं करवा पाएगा।

Bhopal

भोपाल : भोपाल (Bhopal) के वन विहार (Van Vihar) से हाल ही में एक खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि जिस हाथी (Elephant) ने अपने ही महावत बुधराम रोतिया को कुचलकर मारा था अब वह हाथी पर्यटकों को सैर नहीं करवा पाएगा। ना ही इस हाथी को अब नियमित गश्त में लगाया जाएगा और ना ही ये पर्यटकों को घुमा पाएगा। इसे वन्यप्राणी मुख्यालय ने जंजीरों से बांध कर रखने के निर्देश दिए है।

जानकारी के मुताबिक, 2020 में इस हाथी ने टाइगर ट्रेकिंग के दौरान हिनौता वनपरिक्षेत्र के रेंजर बीआर भगत को पहले सूंड से पकड़कर फेंका उसके बाद उसे पैरों से कुचल दिया। ये उस हाथी ने एक दम मदमस्त होकर किया था। इसके अलावा कान्हा टाइगर रिजर्व के घोरेला बाड़े में बंद बाघिन ‘सुंदरी” को भोपाल के वन विहार में लाए जाने का आदेश दिया गए है। ऐसे में आज वन विहार का प्रबंधन सुंदरी को लाने की तैयारी में जुटा हुआ है।

Must Read : इस सब्जी के जूस को पीने से शरीर में होते है ये गजब फायदे, मिनटों में कंट्रोल होता है Uric Acid, ऐसे बनाए

हाथी ‘रामबहादुर”

बता दे, हाथी ‘रामबहादुर” ने एक बार फिर 3 दिन पहले ही अपने ही महावत को मार डाला। बताया जा रहा है कि 20 साल से वह महावत उस हाथी की सेवा कर रहा था। रोज उस हाथी को वह नहलाने, खाना खिलाने के साथ उसकी बीमारी का भी हमेशा ध्यान रख डॉक्टर की मदद से उसका इलाज करवाता था। बच्चे की तरह पालने वाले इस महावत को हाथी ने मार डाला।

हाथी ने अपने पैरों से कुचल कर महावत की हत्या की। जिसके बाद इस हाथी को अब जंजीरों से बांध कर रखने के निर्देश दिए गए है। कहा जा रहा है कि ये हाथी और भी कई लोगों के लिए खतरा बन सकता है। क्योंकि अब तक उसने दो लोगों की हत्या कर दी है। ऐसे में उसको बाहर रखना सही नहीं होगा। इस वजह से अब अलग रखा जाएगा साथ ही उसे नियमित गश्त से भी दूर रखा जाएगा।