भोपाल : सेवानिवृत्त अधिकारी के साथ ऑनलाइन फ्रॉड, फास्टैग के नाम पर ठगे डेढ़ लाख

सिंचाई विभाग के रिटायर्ड अधिकारी के साथ फास्टटैग के नाम पर डेढ़ लाख रुपए की धोखाधड़ी हुई है

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। ऑनलाइन फ्रॉड के मामले आजकल बढ़ते ही जा रहे है। शातिर टेक सेवी ठग बड़ी आसानी से लोगों को बेवकूफ बनाकर उनके अकाउंट खाली कर रहे है। ऐसा ही एक मामला शहर के शाहपुरा इलाके से सामने आया है, जहां सिंचाई विभाग के रिटायर्ड अधिकारी के साथ फास्टटैग के नाम पर डेढ़ लाख रुपए की धोखाधड़ी हुई है ।

जानकारी के मुताबिक, शाहपुरा इलाके में रहने वाले एक 77 वर्षीय ओमप्रकाश चौधरी बंद पड़े फास्टैग को चालू कराना चाह रहे थे, इस दौरान उन्होंने फास्टैग को अपडेट करने के लिए ऑनलाइन नंबर निकाला, उन्होंने उस नंबर पर फोन किया, लेकिन बात नहीं हो पाई। इसके बाद बाद में उनके पास एक फोन आया, जिसने फास्टैग चालू करने की बात की।

ये भी पढ़े … दरिंदगी की सारी हदें पार, टिकट कलेक्टर ने बेटिकट महिला यात्री से किया रेप

उस जालसाज ने उसने तीन अलग-अलग मोबाइल नंबरों से बात की। बाद में उसने फास्टैग चालू करने के लिए उनके बैंक खातों की डिटेल मांगी। लेकिन ओमप्रकाश चौधरी ने इस दौरान एक बड़ी गलती कर दी, उन्होंने उस व्यक्ति को ओटीपी बता दिया, जिसके साथ ही उनके और उनकी पत्नी के दो बैंक खातों से करीब डेढ़ लाख रुपए की कट गए।

इसके बाद ओमप्रकाश ने तीनों मोबाइल नंबरों पर फोन लगाया लेकिन किसी ने उनका फोन नहीं उठाया। ऑनलाइन ठगी का शिकार हुए ओमप्रकाश चौधरी ने साइबर क्राइम में लिखित में आवेदन दिया। आवेदन की जांच के बाद पुलिस ने साइबर क्राइम के प्रतिवेदन पर एफआईआर दर्ज की। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

ये भी पढ़े … चोरी करने के बाद सीसीटीवी के सामने किया भंगड़ा, वायरल हुआ वीडियो

किसी के साथ ना करे ओटीपी शेयर

किसी के साथ अपना ओटीपी शेयर न करे, इस बात को बैंक और सरकार आम जनता को बता-बताकर थक गई है, लेकिन फिर भी लोग अपनी पर्सनल डिटेल्स देने से नहीं चूकते। ऑनलाइन फ्रॉड से बचना का सिर्फ यहीं एकमात्र तरीका है कि पर्सनल डिटेल्स के साथ-साथ ओटीपी किसी के भी साथ शेयर ना करे।