मुरुम के अवैध उत्खनन पर पुलिस की छापामार कार्रवाई, 1 जेसीबी 2 ट्रैक्टर समेत वाहन चालक को पकड़ा

नर्मदा नदी से लगे क्षेत्रों में लम्बे समय से मुरुम का अवैध खनन हो रहा है जिसकी जानकारी मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छापामार कार्रवाई की।

जबलपुर, संदीप कुमार। नर्मदा नदी से लगे क्षेत्रों में लम्बे समय से मुरुम की अवैध खनन हो रही है और बड़ी तादाद में रात होते ही अवैध खननकर्ता मिट्टी खोदने में जुट जाते हैं। जिसकी जानकारी मिलने पर पुलिस ने मौके पर छापामार कार्रवाई की। जानकारी के मुताबिक जबलपुर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा को इस मामले की सूचना मिली तो उन्होंने तिलवारा थाना पुलिस को कार्यवाही के निर्देश दिए जिसके बाद पुलिस ने मौके पर छापामार कार्रवाई करते हुए 1 जेसीबी, 2 टैक्टर ट्रॉली समेत वाहन चालकों को पकड़ा है।

मुरुम के अवैध उत्खनन पर पुलिस की छापामार कार्रवाई, 1 जेसीबी 2 ट्रैक्टर समेत वाहन चालक को पकड़ा

ये भी देखें- अपराजिता : दुनिया से जाते जाते दो लोगों को रोशनी दे गई 18 दिन की यह मासूम

जानकारी के अनुसार ये ट्रालियों में जेसीबी के माध्यम से मुरम भरी जा रही थी। मामले में पुलिस ने दो ट्रेक्टर चालकों को गिरफ्तार कर मशीनरी जब्त की है वहीं ट्रेक्टर मालिक मौके से फरार हो गया। थाना प्रभारी तिलवारा राहुल सैयाम ने बताया कि ग्राम ललपुर में जेसीबी से अवैध रूप से मुरूम उत्खनन कर टैक्टर टालियों में लोड की जा रही है। जिसके बाद दबिश दी गयी तो एक जेसीबी मशीन मुरूम उत्खनन करते हुये पाया गया। साथ ही पास में खड़ी 2 टैक्टर ट्रालियों में जेसीबी के माध्यम से मुरूम भरी जा रही थी। मामले पर जेसीबी चालक पुलिस को आता देख भाग गया जिसे घेराबंदी कर पकड़ लिया। वहीं एक ट्रैक्टर चालक भाग गया।

ये भी देखें- Indore news: ‘अफगानियों को तालिबान सरकार भी मंजूर, भारत से रिश्ते मजबूत रखना चाहते हैं अफगानी व्यापारी’

पुलिस ने पकड़े गए वाहन चालक से पूछताछ की जिसपर उसने बताया कि उक्त जेसीबी मशीन जबलपुर निवासी रॉबिन तिवारी की है जो आकाश राय द्वारा 900 रूपये प्रतिघंटा के हिसाब से किराये पर जेसीबी मशीन से खुदाई करवाने के लिये दी गई। मामले में मरूम से भरी 1 जेसीबी मशीन और 2 टैक्टर ट्राली को पुलिस ने जब्त करते हुये जेसीबी चालक, दोनों टैक्टर चालक, टैक्टर मालिक एवं अवैध उत्खनन करनवाले वालों के खिलाफ 4 खनिज अधिनियम एवं 53 गौण अधिनियम के तहत कार्रवाई करते हुये प्रकरण खनिज विभाग को भेजा गया है।