फर्जी दस्तावेजों से जमानत दिलवाने वाले रैकेट का पर्दाफाश, 70 वर्षीय आरोपी निकला मास्टर माइंड

एसपी अमित सांघी ने कहा कि हम ये प्रयास करेंगे कि यदि केसेस की पूरी जानकारी मिल जाती है तो हम आवेदन देकर न्यायालय से उन जमानतों को निरस्त भी करवाएंगे।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर पुलिस (Gwalior Police) ने फर्जी दस्तावेजों की मदद से आरोपियों को जमानत दिलवाने वाले एक रैकेट का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने रैकेट के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया हैं। रैकेट का मास्टर माइंड 70 वर्षीय आरोपी है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से बड़ी संख्या में ऋण पुस्तिकाएं, फर्जी सील सहित अन्य दस्तावेज बरामद किये हैं। पुलिस आरोपियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी और फर्जी जमानतों को निरस्त करने के लिए न्यायालय से अनुरोध करेगी।

फर्जी दस्तावेजों से जमानत दिलवाने वाले रैकेट का पर्दाफाश, 70 वर्षीय आरोपी निकला मास्टर माइंड

जानकारी के अनुसार पुलिस ने रैकेट का पर्दाफाश करते हुए उसके कब्जे से 75 ऋण पुस्तिकाएं, तहसीलदार, पटवारी, आरआई, एसडीएम की 32 सीलें, 9 ऋण पुस्तिकाएं जिनपर जमानत स्वीकृत हुई है, बरामद की है। इनका जाल ग्वालियर सहित आसपास के जिलों में भी फैला था। सूचना पर क्राइम ब्रांच को अलर्ट किया गया। जिसने इस रैकेट का पर्दाफाश कर दिया।

ये भी पढ़ें – Phd थीसिस अप्रूव करने प्रोफ़ेसर ने मांगी 50,000 की रिश्वत, EOW ने रंगे हाथ पकड़ा

एसपी अमित सांघी ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि सूचना मिली थी कि विभिन्न न्यायालयों और कार्यों में जमानत की आवश्यकता होती है उसके लिए एक गैंग काम कर रहा है।  एडिशनल एसपी  क्राइम, डीएसपी क्राइम, इंदरगंज थाना टीआई को सूचना के बाद एक्टिव किया गया। टीम ने मेहनत कर रैकेट के तीन आरोपी गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों में एक 70 वर्षीय आरोपी  रैकेट का मास्टर माइंड है। इनके कब्जे से बड़ी संख्या में सीलें, खाली ऋण पुस्तिकाएं, ऐसी ऋण पुस्तिकाएं जिसपर न्यायालय से जमानत दी जा चुकी है बरामद हुई हैं, एक प्रिंटर बरामद हुआ है जिससे ये फर्जी दस्तावेज बनाते थे।

ये भी पढ़ें –MP Recruitment 2021: सिविल जज परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी, 29 दिसंबर से शुरू होगी प्रक्रिया 

एसपी ने बताया कि आरोपियों से जो सीलें मिली हैं उनमें तहसीलदार, पटवारी, आरआई, एसडीएम की सीलें हैं जो ग्वालियर और आसपास के जिलों की हैं।  आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि जो क्रिमिनल केस चलते थे उसका पता लगाकर ये आरोपी की जमानत के लिए फर्जी ऋण पुस्तिकाओं का उपयोग कर जमानत दिलवा देते थे।

ये भी पढ़ें – बालाघाट : ऑनलाइन ठगी करने वाले अंतर्राज्यीय गैंग के 8 आरोपी गिरफ्तार

एसपी अमित सांघी ने कहा कि आरोपियों को रिमांड पर लेंगे और पता लगाने का प्रयास करेंगे कि अब तक इन लोगों ने कितने केस में फर्जी जमानत दिलवाई है। हम ये प्रयास करेंगे कि यदि केसेस की पूरी जानकारी मिल जाती है तो हम आवेदन देकर न्यायालय से उन जमानतों को निरस्त भी करवाएंगे।