प्रचार में जुटे मंत्री पुत्र को नाराज कार्यकर्ता ने सुना दी खरी-खरी, कहा- पार्टी छोड़कर गलत किया, अब वोट कैसे मांगें

कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए प्रभुराम चौधरी सांची से हैं संभावित प्रत्याशी, बेटे ने संभाली प्रचार की कमान, लोगों की नाराजगी का करना पड़ रहा है सामना

prabhuram-chaudhary

रायसेन, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (By-election) में दल बदल कर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों की राह आसान नहीं है| उनके ही कार्यकर्ता अब अपने नेता से सवाल पूछ रहे हैं| मामला रायसेन जिले की सांची विधानसभा क्षेत्र (Sanchi Assembly) का है, जहां कांग्रेस (Congress) छोड़ भाजपा (BJP) में आये और बीजेपी के संभावित प्रत्याशी प्रभुराम चौधरी (Prabhuram Chaudhary) के बेटे को एक नाराज ग्रामीण ने घेर लिया| उनसे दल बदलने पर नाराजगी जाहिर करते हुए सवाल किये तो चौधरी के बेटे युवक के सवालों का जवाब नहीं दे पाए|

दरअसल, रायसेन जिले की सांची विधानसभा में होने वाले उपचुनाव की तैयारियों को लेकर भाजपा सरकार में स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी के स्वास्थ्य ख़राब होने के बाद बाद से ही उनके दोनों बेटे पर्व और रौनक चौधरी चुनाव प्रचार की कमान संभाले हुए हैं| वे लगातार अपने साथियों के साथ गांव गांव जनसम्पर्क कर रहे हैं| इसी दौरान एक गांव में बड़े बेटे पर्व चौधरी का एक नाराज ग्रामीण से सामना हो गया| जिसने प्रभुराम चौधरी के बेटे को खरी खरी सुना दी| इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है|

युवक ने साफ़ कहा कि हम नाराज है, हमने आपके लिए बहुत मेहनत की, जहां से 10 वोट नहीं मिलते वहां हमने हजार वोट दिलवाये, लेकिन आपने पार्टी बदलकर ठीक नहीं किया, अब हम आपके लिए कैसे वोट मांगेंगे| युवक ने पर्व चौधरी से सवाल किया कि ऐसी कौनसी बात आ गई थी कि आपने ऐसा काम किया| जब मंत्री के बेटे ने कहा कि एक गलत व्यक्ति को मुख्यमंत्री बना दिया था, इसलिए ऐसा हुआ, तो नाराज युवक ने कहा कि हमारा कर्ज माफ़ किया तो क्या वो गलत हो गए, 50 हजार से एक लाख तक का कर्ज माफ़ किया| मंत्री पुत्र ने कहा सरकार तो गिर ही गई, अगर अकेले विधायक भी बने रहते तो क्या करते, समय के साथ चलना पड़ता है| युवक ने कहा जिनसे वोट मांगे थे अब वो हमसे सवाल कर रहे किस नाम पर वोट मांगें, हमने तो कह दिया प्रभुराम चौधरी को अब हराना है|