Raisen news: एसडीएम कार्यालय में लोकायुक्त का छापा, रंगे हाथों पकड़ा

लोकायुक्त के छापे में रंगे हाथों पकड़ाए एसडीएम। क्रेशर की अनुमति देने के बाद ₹45 हजार की मांग की थी।

रायसेन, डेस्क रिपोर्ट। भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ लोकायुक्त की कार्रवाई लगातार जारी है। लोकायुक्त की टीम सूचना मिलते ही और गुप्त रूप से की गई छानबीन के दम पर भ्रष्टअधिकारियों की नकेल कसने हेतु लगातार छापेमारी कर रही है। इसी क्रम में रायसेन गैरतगंज में एसडीएम के कार्यालय पर लोकायुक्त की टीम ने छापेमारी की।

यह भी देखें-  भाजपाविधायक ने विधान सभा में ध्यान आकर्षण पत्र लगाकर डीएफओ पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

लोकायुक्त की टीम ने SDM मनीष जैन के पास 45 हजार रुपये पकड़े। रंगे हाथों धराएं एसडीएम इस नगद राशि के बारे में कोई भी संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाए। लोकायुक्त टीम ने छापेमारी के बाद जानकारी देते हुए इस बारे में बताया।

यह भी देखें- Bhopal : लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, 8 हजार रूपए लेते रंगेहाथों धराए पटवारी, गिरफ्तार

SDM मनीष जैन के बाबू दीपक ने तनवीर पटेल नामक व्यक्ति से रिश्वत के नाम पर यह रकम ली। तनवीर पटेल की क्रेशर की अनुमति देने के एवज में SDM ने ₹45 हजार की रकम मांगी थी। ग्राम अगरिया कला में क्रेशर मशीन की अनुमति लेने गए तनवीर पटेल से SDM मनीष जैन ने रिश्वत के रूप में ₹45 हजार मांगे ।आपको बता दें कि एसडीएम के क्रियाकलापों पर इससे पहले भी कई तरह के प्रश्ननचिन्ह लग चुके हैं और वे लगातार शंका के दायरे में थे।

यहां भी देखें-  MPमें लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, 1 लाख की रिश्वत लेते CMO रंगेहाथों गिरफ्तार

लगातार मिल रही शिकायतों के बाद लोकायुक्त SDOP संजय शुक्ला और 8 सदस्यीय टीम मौके पर पहुंची और एसडीएम को रंगे हाथों धरा। मामले पर संजय शुक्ला का कहना है कि मामले की पूरी जांच की जा रही है और अभी और भी कहीं सुराग मिलने की उम्मीद है। इस छापेमारी के बाद SDM मनीष जैन की तबियत बिगड़ गई और उन्हें रायसेन जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है ।

ऐसे हुआ पुरा घटनाक्रम- दरअसल, एसडीएम ने एक लाख की डिमांड की थी, लेकिन मामला 50 हजार रूपए में तय हुआ।जिसकी शिकायत फरियादी सईद अहमद कुरेशी ने भोपाल लोकायुक्त एसपी से की। शिकायतकर्ता ने बताया कि 5 हजार पहले ही ले लिए गए थे। आज बाकी के 45 हजार एक लिफाफे में लेकर वो आफिस पहुंचा। उसने एक लिफाफे में 40 और दूसरे में 5 हजार रूपए रखें। एसडीएम के बाबू दीपक श्रीवास्तव एवं प्राइवेट कंप्यूटर ऑपरेटर राम नारायण अहिरवार का कमीशन काटने के बाद 30 हजार एसडीएम मनीष जैन को देने थे। इसी दौरान लोकायुक्त ने एसडीएम को रंगे हाथों रिश्वत लेते पकड़ा। 2017 बैच के अधिकारी एसडीएम मनीष जैन कि तबीयत खराब हो गई है और वह भोपाल रेफर हुए हैं ।