लॉकडाउन में SDM की पत्नी सरकारी वाहन से सीख रही ड्राइविंग, SDM ने मीडिया से की बदसलूकी

रायसेन/दिनेश यादव

कहते हैं जब सैंया भये कोतवाल तो डर काहे का..ये कहावत चरितार्थ होती नजर आई है रायसेन के सिलवानी में जहां लॉक डाउन में प्रशासनिक अधिकारी ही नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं।

आपको मध्यप्रदेश शासन SDM लिखी हुई सरकारी गाड़ी के स्टेयरिंग व्हील पर जो महिला नजर आ रही हैं वे सिलवानी एसडीएम अनिल जैन की पत्नी हैं। लॉक डाउन के दौरान सारे नियमों को ताक पर रखकर ये सड़कों पर सरकारी वाहन चलाती नजर आ रही हैं। ऐसा लगातार तीन दिनों से देखा जा रहा है और माना जा रहा है कि ये गाड़ी चलाना सीख रही हैं।

इस बारे में जब मीडिया एसडीएम साहब से बात करने गई तो बजाय कुछ जवाब देने के वो मीडिया पर ही भड़क उठे, इससे पहले उनकी पत्नी भी बात करने गए पत्रकार से नजरें चुराते हुए सारे मामले पर पर्दा डालते दिखीं।

एसडीएम को सरकारी कार्य के लिये आवंटित बोलोरो वाहन क्रमांक एमपी 02 ए.व्ही. 6616 वही सरकारी वाहन है जिसमे बैठकर इस कोरोना संकटकाल में एसडीएम को लोगों की समस्याएं और व्यवस्थाएं देखनी चाहिए। लेकिन ताज्जुब है कि उसी वाहन से उनकी पत्नी ड्राइविंग सीख रही हैं। उन्होने लॉक डाउन को अपने मनोरंजन का मौका देखते हुये नगर की सुनसान खाली सड़क पर फर्राटे से कार सीखने का अवसर निकाल लिया है।

प्रत्यक्षदर्शियों का भी कहना है कि बोलोरो वाहन क्रमांक एमपी 02 ए.व्ही. 6616 से एक मेडम सियरमउ रोड पर प्रतिदिन सायंकाल कार सीखने के लिए निकलती है। मीडिया कर्मियों ने जब कार का पीछा कर कार को रोका गया तो मेडम ने बताया कि उनकी कार खराब हो गई इसलिये इस कार में वह बैठी है। जबकि वह उक्त कार को स्वयं ड्राइव कर रही थी। मीडिया जब वीडियो बनाने लगे तो वह कार से उतर कर पीछे की सीट पर बैठ गई जब इस संबंध में एसडीएम अनिल जैन से बात करना चाही तो उन्होने मीडिया से झल्लाते हुये उनके बंगले का वीडियो बनाने पर खरी खोटी सुनाई और बात करने से इंकार कर दिया।

इस समय जब सभी बड़े अधिकारियों से लेकर छोटे कर्मचारी तक अनिवार्य सेवाओं के अंतर्गत अपनी सेवाएं दे रहे हैं, वही दूसरी और सिलवानी एसडीएम अनिल जैन की इतनी बड़ी लापरवाही और उसके बाद मीडिया से बदसलूकी हैरत से अधिक दुख की बात है। अगर आला अधिकारी ही इस तरह खुलेआम सरकारी नियमों और उन्हें मुहैया कराई गई सुविधाओं का ऐसे दुरूपयोग करेंगे तो आम जनता किसके भरोसे रहेगी। अब देखना होगा कि इस खबर और वीडियो के सामने आने के बाद एसडीएम साहब पर क्या कार्रवाई होती है।