‘अर्जेंट ब्लड चाहिए’, WhatsApp पर मैसेज देखते ही रक्तदान करने पहुंच गई कलेक्टर

collector-reached-hospital-for-donation-blood-after-seen-whatsapp-message-

राजगढ़| मनीष सोनी| रक्तदान महादान कहा जाता है, लेकिन इसे लेकर लोगों के मन में कई तरह की भ्रांतियां रहती है। इसके चलते कई लोग खून देने से कतराते हैं| समय पर खून न मिल पाने से रोजाना कई लोगों अस्पताल में दम तोड़ देते हैं| ऐसे समय अगर कोई सूचना हमारे पास आये तो बिना समय गँवाए रक्तदान के लिए पहुंचना चाहिए| क्यूंकि जब हमारे खून से किसी की जान बचती है तो ख़ुशी देने वाला पल होता है| कुछ ऐसा ही किया राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता ने, जब उन्हें व्हाट्सएप पर एक मेसेज मिला और वे खुद तत्काल रक्तदान के लिए अस्पताल पहुंच गई।

दरअसल, राजगढ़ जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में इन दिनों खून की कमी चल रही है। जिले के ब्यावरा के समीप खजूरिया गांव में रहने वाली कविता दांगी को खून की कमी की शिकायत के बाद उसे खून चढ़ाया जाना था। लेकिन अस्पताल में बी पॉजिटीव ग्रुप की कमी थी। तभी व्हाट्सएप पर ब्लड की आवश्यकता है इसकी सूचना वायरल की गई| यह मैसेज कलेक्टर निधि निवेदिता ने एक वाट्सएप ग्रुप में देखा तो वे खुद अस्पताल पहुंच गई। पहले ब्लड बैंक में स्टाक की स्थिति को देखा और बाद में खुद ही रक्तदान कर एक यूनिट ब्लड डोनेट किया।

इस दौरान कलेक्टर निधि निवेदिता ने कहा मैंने रविवार को मतदान किया और सोमवार को भी रक्तदान किया। रक्तदान करने से किसी प्रकार की कोई कमी नहीं आती और 24 घंटे के अंदर वापस दिया गया रक्त बन जाता है। ऐसे में सभी को इस पुण्य कार्य के लिए आगे आना चाहिए। वहीं उन्होंने ब्लड की कमी की पूर्ति के लिए अस्पताल प्रबंधन के साथ ही समाजसेवियों के माध्यम से एक ब्लड डोनेशन कैंप लगाने की बात कही है।