वैक्सीन के डर से पत्नी का आधार कार्ड छिपा कर पेड़ पर चढ़ा युवक, डोज खत्म होने के बाद नीचे उतरा

स्वास्थ्य विभाग की समझाइश के बाद युवक के मन में से टीके का डर खत्म हो गया है और टीका लगवाने को तैयार हो गया है।

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना वायरस (corona virus) से बचाव को लेकर शहर से लेकर गांव तक टीकाकरण तेजी से किया जा रहा है। वहीं राजगढ़ (Rajgarh) जिले में भी प्रशासन द्वारा लोगो को जागरूक करने के साथ-साथ मतदान की तर्ज पर महा टीकाकरण अभियान चलाया गया। जिनमें लक्ष्य की तुलना में डेढ़ गुने से भी ज्यादा वैक्सीनेशन (vaccination) किया गया। लेकिन अभी भी लोगों में पूर्व में वैक्सीन को लेकर फैलाई गई अफवाहों का असर कहीं-कहीं देखने को मिल जाता है।

यह भी पढ़ें…खंडवा- आश्रय गृह की सुरक्षा में बड़ी चूक, वन स्टॉप सेंटर से दो सगी बहनें लापता

ऐसा ही मामला राजगढ़ से 3 किलोमीटर दूर स्थित पाटन कला गांव में देखने को मिला है। जहां एक युवक वैक्सीन के डर से पहले तो अपनी पत्नी का आधार कार्ड छुपा दिया और फिर खुद पेड़ पर गया। और तब तक नहीं उतरा जब तक टीकाकरण केंद्र पर वैक्सीन खत्म नहीं हो गई। वहीं इस बात की जानकारी जैसे ही स्वास्थ्य विभाग को लगी तो टीम युवक तो समझाने गांव पहुंची।

पाटन कला गांव में रहने वाले 25 साल वर्षीय कंवरलाल को गांव में लगाए गए टीकाकरण केंद्र में टीका लगाने को लेकर बुलाया जा रहा था। उसकी पत्नी अंधी है जिसे वैक्सीन लगाने को लेकर लोगों ने तैयार भी कर लिया था और टीकाकरण केंद्र भी ले गए। लेकिन जैसे ही कंवरलाल को यह जानकारी लगी वह आधार कार्ड लेकर भाग गया। और गांव के ही लोग जब उसे बुलाने गए तो वह पेड़ पर चढ़ गया। दरअसल टीका ना लगवाने वाले कंवरलाल के मन में यह डर बैठा है कि टीका लगने से बुखार आता है और बाद में बहुत परेशानी हो जाती है। यही कारण है कि ना तो उसने खुद टीका लगवाया बल्कि अपनी पत्नी को भी टीका नहीं लगने दिया। युवक काफी देर तक पेड़ पर चढ़ा रहा। उसके बाद जब उसे यह जानकारी लगी कि गांव में जो टीका लगने के लिए आए थे, वह खत्म हो चुके हैं। तब वह पेड़ से नीचे उतरा फिलहाल उसे और उसकी पत्नी को अभी भी टीका नहीं लग पाया है। जब कोरोना के डर से पेड़ पर चढ़े कंवरलाल की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को लगी तो राजगढ़ जिले से स्वास्थ्य विभाग की टीम युवक को समजाने गाँव मे उसके घर पहुंची। जहां उसे समझाइश देने के बाद उसकी गलत भ्रांति को दूर किया गया। युवक के मन मे से टीके का डर खत्म हो गया है और टीका लगवाने को तैयार हो गया है। अब उसने कहा है कि जब भी गाँव मे टीके लगाने के लिये कैंप लगेगा तो वह अपनी पत्नी के साथ टीका जरूर लगवायेगा।

यह भी पढ़ें…बरेला बनी मप्र की शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन वाली पहली नगर पंचायत, मंत्री भूपेंद्र सिंह ने दी बधाई