गुजरात पैटर्न पर मिले 10% आरक्षण, 31 को तय होगा चुनाव में करणी सेना किसके साथ

karni-sena-demand-for-10-percent-reservation-on-Gujarat-pattern--big-sammelan-on-31-march--

राजगढ़| मनीष सोनी| लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही राजपूत करणी सेना भी सक्रिय हो गई है| इसी को लेकर मध्यप्रदेश के राजगढ़ में करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने मीडिया को बताया कि सवर्णो को 10%आरक्षण गुजरात पैटर्न पर कांग्रेस को देना चाहिए अगर वह कार्य नही करते है तो जैसे हमने बीजेपी को तीन राज्यो से सफाया किया है, उसी प्रकार हम कांग्रेस का पूरे देश से सफाया कर देंगे । विधानसभा चुनाव में  सवर्ण समाज और करणी सेना ने जो संदेश दिया था, आने वाले 31 मार्च को वह बडा संदेश हम भोपाल से देंगे कि हम किसके साथ है, कांग्रेस या बीजेपी| 

उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश की धरती से, फिर से आगाज किया है|  राजपूत समाज ने करणी सेना ने आने वाले चुनाव में, जैसे कमल का फूल, हमारी भूल,  इन तीन राज्यों में हमने नारा दिया है ,उन तीनों राज्य में हम ने बीजेपी को हराया, वह जाति जिसने बीजेपी को खड़ा किया, वह सवर्ण जो बीजेपी की रीड की हड्डी है, हमारी अनदेखी की गई|   सवर्णों को 10% आरक्षण गुजरात पैटर्न दिया जाए|  अगर केंद्र हमको इस लिए आरक्षण देने को राजी हुई , क्योंकि तीन राज्यो में  राजपूत करणी सेना और सवर्णो ने बीजेपी को सलटा दिया|  BJP के उस गढ़ को हमने ध्वस्त कर दिया जो 15 साल से एमपी, राजस्थान ��र छत्तीसगढ़ में था| अगर यही अनदेखी कांग्रेस भी सवर्णो की और राजपूत समाज की करती है, तो आने वाली 31 मार्च को राजपूत समाज मध्य प्रदेश की धरती से तय करेगा कि हमे बीजेपी के साथ जाना है या हमे कांग्रेस के साथ जाना है | उन्होंने कहा  जो पार्टी सवर्णो की बात करेगी, जो राजपूत की बात करेगी, इस भारत में वही पार्टी राज करेगी, नहीं तो आने वाले चुनाव में, जिस तरह हमने 3 राज्यों में ,जैसे हमने बीजेपी का सफाया किया है हो सकता है कि हम कांग्रेस का पूरे देश से सफाया कर दे |  हम खुद चाहते हैं कि मोदी खुद राष्ट्रवाद की बात करते है तो हम खुद राष्ट्रवादी लोग हैं| हम चाहते हैं कि वह, खुद हमसे बात करें, हमारे मुद्दों पर हमारे साथ आये| अगर वह फिर हमारी अनदेखी करेंगे तो आने वाले लोकसभा चुनाव तय करेगा,की राजपूत समाज और सवर्ण समाज किस करवट बैठेगा|  पूरे देश में जिस तरीके से विधानसभा चुनाव में ग्वालियर से इस सवर्ण समाज और करणी सेना ने जो संदेश दिया था, आने वाले 31 मार्च को वह बडा संदेश हम भोपाल से देंगे ,कि हम किसके साथ खड़े हैं ।

मुक़दमे वापस ले सरकार 

मकराना ने कहा भोपाल में  हम किसके साथ जाना चाहते हैं उस पर चर्चा होगी, 10 % आरक्षण को लेकर, पद्मावती मुद्दे पर पूरे देश में हमारे  खिलाफ केस दर्ज हुए है, हमने ऐसा क्या बिगाड़ दिया है, पत्थरबाजों के खिलाफ लगे केस, वापस हो सकते हैं, तो पद्मावती  मुद्दे पर तो हमने किसी के ऊपर पत्थर नहीं मारा| हमने हमारी स्वाभिमान की लड़ाई लड़ी है,अगर उसमें आप मुकदमें वापस नहीं लोगे तो फिर हमें सोचना पड़ेगा । 

 

न चौकीदार से बात बनेगी न पकोड़े तलने से 

कोई चौकीदार, बनने वाला चौकीदार बने, कोई थानेदार, बनने वाला थानेदार बने ,में, तो क्षत्रिय समाज से आता हूं , इस देश के सैनिक परिवार से आता हूं , हमने इस देश की सरहदों की रक्षा पीढ़ियों से की है ,ओर सैनिक, चौकीदार होता है, या, थानेदार होता है , ये तो इस देश की जनता जाने  में तो सिर्फ ये बोलना चाहता हु अगर इस देश को इक्कीस वी सदी में आगे लेकर जाना है, तो चौकीदार, ओर थानेदार से ऊपर उठकर , राष्ट्रीयवाद की बात करनी होगी | न कोई चौकीदार, से बात बनेगी न पकोड़े तलने से बात बनेगी, ओर न ही सर्जिकल स्ट्राइक पर, उंगली उठाने से बात बनेगी | बात बनेगी राष्ट्र के हित में काम करने से,  बेरोजगार युवाओं को हम कितनी नौकरियां दे सकते हैं ,युवाओं के भविष्य के लिए क्या कर सकते हैं|