राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट| जम्मू-कश्मीर के बारामूला में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए मनीष कारपेंटर का पार्थिव शरीर बुधवार को खुजनेर पहुंचा| अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा| इस दौरान एक छत अचानक ढह गई| जिस पर बड़ी संख्या में लोग चढ़े हुए थे| इस हादसे में तीन लोग घायल हुए है|

खुजनेर की माटी के लाल सेना की 11वीं बटालियन के वीर जवान मनीष दो दिन पहले जम्मू-कश्मीर के बारामूला के सलोसा इलाके में आतंकियों से सुरक्षाबलों की मुठभेड़ में लड़ते-लड़ते शहीद हो गए थे। मनीष की पार्थिव देह बुधवार सुबह लगभग 9 बजे खुजनेर पहुंच गई। अंतिम दर्शन करने के लिए खुजनेर नगर में भारी संख्या में लोगो का हुजूम जमा हो गया| इस दौरान शहीद मनीष के घर के पास खाली पुराने मकान की छत पर बड़ी संख्या में लोगो के पहुचने पर छत अचानक ढह गई | जिससे छत के हिस्से के साथ लोग नीचे जा गिरे| हालांकि इस हादसे में तीन लोग घायल हुए है|

एक करोड़ सम्मान निधि और एक सदस्य को नौकरी की घोषणा
मनीष के पार्थिव शरीर को आर्मी ट्रक में सुबह 9 बजे भोपाल से राजगढ़ के लिए रवाना किया गया। भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रद्धांजलि दी और उनके परिजन को एक करोड़ रुपए की सम्मान निधि और एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा की।