कोरोना के बाद प्रकृति का कहर, तेज़ आंधी व बारिश से किसानों को भारी नुकसान

राजगढ़।मनीष सोनी।

जिले में गुरुवार को शाम के बाद हुई तेज़ आंधी के साथ हुई बे मौसम बारिश के कारण सबसे ज्यादा नुकसान संतरा फसल फल ,गेंहू,चना,मसूर में देखने को मिला। जिन किसानों ने अब तक संतरे के फल नहीं तोड़े थे। वे पूरी तरह से बर्बाद हो गए।

गुरुवार को तेज आंधी के साथ हुई बेमौसम बारिश के कारण सारंगपुर तह सील के हराना गाँव की प्रेम बाई को भारी नुकसान हुआ है। प्रेम बाई ने बैंक से 1 लाख रुपये की KCC लेकर 3 बिघा ज़मीन में संतरे के 300 पेड़ लगाए थे।जिसमे से 200 पेड़ में ही संतरे के फल लगे थे ,लेकिन तेज़ आंधी के साथ हुई तेज़ बारिश में बगीचे के सभी फल गिर गए।

इधर, ट्रांसपोर्ट बंद होने के कारण व्यापारियो ने भी अब इन टूटे हुए फलो को खरीदने से इंकार कर दिया। यानी इन किसानों को लाखों रुपए का नुकसान हो गया। वही तेज़ आंधी के साथ हुई बारिश से राजगढ़ जिले में गेंहू,चना,मसूर में नुकसान हुआ है ,वही खेत मे खड़ी गेहूं की फासले ज़मीन पर गिर गई। वही आंधी के कारण बड़े बड़े पेड़ भी गिर गए है ।

कोरोना के बाद प्रकृति का कहर, तेज़ आंधी व बारिश से किसानों को भारी नुकसान