राजस्थान की सीमा पर 80 लाख की अवैध अंग्रेजी शराब से भरा ट्रक जब्त, 1 आरोपी गिरफ्तार

Amit Sengar
Published on -
rajgarh

Rajgarh News : मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव की शुरूआत में ही बड़ी मात्रा में शराब तस्करी की घटनाऐं सामने आई है। ताजा मामला सामने आया है, जिसमें रविवार को देर रात्रि में राजगढ़ जिले की माचलपुर पुलिस ने राजस्थान सीमा पर स्थित गोघटपुर चैक पोस्ट पर 80 लाख से अधिक की शराब व एक ट्रक को जप्त किया है, वहीं एक आरोपी ड्रायवर को गिरफ्तार कर जांच की जा रही है। अवैध शराब को ट्रक के अंदर जाली वैल्डिंग करके रखा गया था, वहीं उसके सामने व उपर भूसे के कट्टे जमाये हुए थे।

यह है पूरा मामला

पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार, पंजाब से मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव में खपाने के लिये बड़ी मात्रा में अवैध शराब राजस्थान होते हुए इन्दौर की ओर ले जाई जा रही है। जिसकी सूचना पर राजगढ़ एसपी धर्मराज मीणा व एडीशनल एसपी मनकामनाप्रसाद व खिलचीपुर एसडीओपी आनन्द राय के निर्देशन में टीम गठित की गई और माचलपुर थाने में पदस्थ एसआई विवेक शर्मा को टीम के साथ रवाना किया। जिस पर पुलिस ने घेराबन्दी कर राजस्थान सीमा पर स्थित गोघटपुर चेकपोस्ट के यहाँ एक ट्रक क्रमांक NL-01-K9864 को रोका, जिसमें एक ड्रायवर बैठा हुआ था।

पुलिस ने देखा तो ट्रक में पीछे व ऊपर चाँवल के कट्टों में भूसा भरा हुआ था। पुलिस ने जब कुछ भूसे के कट्टों को हटवाया, तो देखा कि उसमें बड़ी मात्रा में शराब भरी हुई थी, जिसे वैल्डिंग करके पैक किया हुआ था। पुलिस ने मौके पर लोहे काटने वाले कटर की मदद से शराब को ट्रक में से निकलवाया। पुलिस ने 670 पेटी इंपेक्ट ब्लू ब्राण्ड की शराब की जप्त की, जो कि 5945 लीटर के लगभग पाई गई। जिसकी कीमत 80 लाख के करीब बताई जा रही है।

माचलपुर पुलिस ने थाने में अपराध क्रमांक 356/23, धारा 34(2) एक्साइज एक्ट के अंर्तगत दर्ज किया है और 1 आरोपी ट्रक ड्रायवर लक्ष पिता सतीश शर्मा, उम्र-20 वर्ष, निवासी-बसड़ा, थाना सलामखां, जिला पानीपत हरियाणा को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने ट्रक क्र. NL-01-K9864, कीमती 35 लाख व 80 लाख 40 हजार की शराब सहित कुल 1 करोड़ 15 लाख 40 हजार का माल जप्त किया है।
राजगढ़ से जितेन्द्र राठौर की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News