VIDEO VIRAL: महिला अधिकारी का रिश्वत लेते वीडियो वायरल, कलेक्टर की बड़ी कार्रवाई, निलंबित

रिटायर्ड कर्मचारी द्वारा महिला अधिकारी को रिश्वत की राशि दी गई। उसी वक्त सेवानिवृत्त कर्मचारी ने मोबाइल से उनका वीडियो बना लिया।

EOW

राजगढ, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) में भ्रष्टाचारियों (corrupt) की धरपकड़ का सिलसिला जारी है। भ्रष्टाचार पर हुई कार्रवाई के तहत राजगढ़ में कलेक्टर (rajgarh collector) ने ट्रेजरी ऑफिस की घूसखोर असिस्टेंट दीपिका सोनी (dipika soni) को निलंबित (suspend) कर दिया है। एक वायरल वीडियो (Viral video) में महिला अधिकारी रिश्वत (bribe) की राशि को टेबल के नीचे से गिनते दिखाई दे रही है। वही वीडियो वायरल होने के बाद ही कार्रवाई की गई है।

जानकारी के मुताबिक सेवानिवृत्त कर्मचारी की पेंशन शुरू करने के बदले ट्रेजरी ऑफिसर दीपिका सोनी द्वारा सेवानिवृत्त कर्मचारी से 3200 रिश्वत की मांग की गई थी। रिटायर्ड कर्मचारी द्वारा महिला अधिकारी को रिश्वत की राशि दी गई। उसी वक्त सेवानिवृत्त कर्मचारी ने मोबाइल से उनका वीडियो बना लिया। वीडियो में महिला अधिकारी टेबल के नीचे से रिश्वत की राशि उसे गिनती नजर आ रही है।

Read More : सुशासन की तरफ बढ़ता MP, पुलिस आयुक्त प्रणाली के तहत दो नवीन योजनाओं की शुरुआत

कर्मचारी द्वारा हुआ वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया गया। जिसके बाद यह जानकारी कलेक्टर तक पहुंची। इस मामले में Collector हर्ष दीक्षित ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रिटायर्ड कर्मचारी चंपालाल और चंद्रशेखर गॉड को कलेक्ट्रेट बुलाकर बयान दर्ज करवाए। इसके साथ ही मामले की पुष्टि होने पर कलेक्टर ने रिश्वतखोर महिला अधिकारी को निलंबित कर दिया।

सेवानिवृत्त कर्मचारी चंपालाल, और चंद्रशेखर गॉड का कहना है कि वह लोक निर्माण विभाग में काम करते थे। सेवानिवृत्त होने के बाद कर्मचारियों के फंड भुगतान में काफी विलंब हो रहा था। जिसके बाद उन्होंने पेंशन शुरू करने की अर्जी ट्रेजरी ऑफिसर को दी। दीपिका सोनी द्वारा पेंशन की राशि देने के एवज में उनसे 3200 रिश्वत की मांग की गई थी।

रिश्वत की राशि कर्मचारी को सौंपने के साथ ही Retired कर्मचारियों ने उसका वीडियो बना लिया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। कलेक्टर ने उन्हें निलंबित कर उनके निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय कलेक्ट्रेट कार्यालय राजगढ़ नियत किया है।