महिला ने किया नाबालिग का शारीरिक शोषण, पति और सास ससुर ने की मदद

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। राजगढ़ में एक महिला द्वारा नाबालिग किशोर के साथ शारीरिक शोषण की घटना सामने आई हैं। हैरत की बात ये है कि इस घटना में महिला का सहयोग उसके पति एवं सास-ससुर ने किया। अब मामला सामने आने पर पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने चारों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया जहां से सभी को जेल भेज दिया गया है।

प्यार में जिसके लिए घर छोड़ दिया उसी ने दिया धोखा, बंधक बना किया दुष्कर्म, गिरफ्तार

थाना भोजपुर के ग्राम खेमापुरा में रहने वाले एक नाबालिग किशोर के साथ एक महिला द्वारा बहला-फुसलाकर अवैध संबंध बनाएं और शारीरिक शोषण किया गया। राजगढ़ जिले में इस प्रकार का यह मामला पहली बार संज्ञान में आया है। बाद में नाबालिग ने उसके साथ हुई घटना की जानकारी अपने परिजनों को दी। इसके बाग परिजनों पूरे मामले की जानकारी चाइल्ड लाइन को दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए किशोर की काउंसलिंग चाइल्ड लाइन राजगढ़ के प्रभारी अधिकारी मनीष दांगी व उनकी टीम द्वारा की गई। काउंसलिंग के बाद चाइल्डलाइन की टीम के द्वारा महिला व उसके परिजन के विरुद्ध कार्रवाई करने हेतु लिखित प्रतिवेदन थाना भोजपुर में दिया गया। इसके बाद तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को मामले से अवगत कराया गया, जिन्होंने इस प्रकरण को प्राथमिकता से संज्ञान में लेते हुए तुरंत कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिये। आरोपियों के विरूद्ध थाना भोजपुर में अपराध क्रमांक 160/21 धारा 384, 427 भादवि एवं 5/6 पोक्सो एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

प्रकरण दर्ज होने के बाद तत्काल ही अवधेश सिंह तोमर थाना प्रभारी थाना भोजपुर के नेतृत्व में टीम गठित की गई, और टीम ने आरोपियों की तलाश के लिये योजना अनुसार कार्य करना प्रारंभ किया गया। जानकारी लेने पर पता चला कि घटना के दिन  से ही आरोपी घर से फरार थे, जिसके बाद पुलिस द्वारा सघन चेकिंग व जगह-जगह दबिश दी गई। पुलिस द्वारा आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी के लिये मुखबिरों को भी काम पर लगाया गया था। इसके बाद आरोपी महिला, उसके पति एवं सास ससुर के बारे में सूचना मिलने पर पुलिस टीम द्वारा आरोपियों के दबोचने के लिये दबिश दी गई और इसमें कामयाबी हासिल हुई। पुलिस ने चारों आरोपियों को हिरासत में लेकर न्यायालय के सामने पेश किया जिसके बाद न्यायालय के द्वारा उन्हें जेल भेज दिया गया है। वहीं नाबालिक किशोर की मानसिक स्थिति को देखते हुए उसकी काउंसलिंग ऊर्जा डेस्क व चाइल्ड लाइन द्वारा की जा रही है।