Video : हथियारबंद बदमाशों ने शराब दुकान के कर्मचारियों से की मारपीट, 3 घायल, CCTV में कैद

वहीं मामले पर फरियादी पुलिस में एफआईआर की मांग कर रहे हैं, लेकिन अब तक इसपर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

रतलाम, मनोज श्रीवास्तव। रतलाम जिले (Ratlam district) में बदमाशों के हौसले बुलंद होते नजर आ रहे हैं। ताजा मामला जिले के नामली से सामने आया है जहां स्थित सरकारी शराब दुकान (Liquor shop) के कर्मचारियों के साथ बदमाशों ने जमकर मारपीट की। बताया जा रहा है कि 5 से 6 की संख्या में हथियारबंद बदमाशों ने मोबाइल के पेमेंट को लेकर कर्मचारियों से विवाद किया और उनके साथ मारपीट की, जिसका वीडियो सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। घटना में 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। वहीं मामले पर फरियादी एफआईआर की मांग कर रहे हैं लेकिन अब तक पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

ये भी पढ़ें- भारत बंद : रेल पटरियों पर बैठे किसान, हाईवे पर लंबा जाम, कई ट्रेंने रद्द, MP में भी असर

जानकारी के अनुसार घटना रविवार करीब रात 10 बजे की है। यहां नामली स्थित एक सरकारी शराब की दुकान पर 5 से 6 गुंडों ने दुकान के कर्मचारियों से पेमेंट को लेकर विवाद किया। विवाद इतना बढ़ गया कि बदमाश उनसे मारपीट करने लगे। घटना में शराब ठेकेदार का भाई कमल सिंह, सोहनसिंह सेमलखेड़ा, और अटेसिंह बाजेड़ा गंभीर रूप से घायल हो गये हैं जिन्हें उपचार के लिये जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं वारदात का पूरा मामला पास में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया जिसका वीडियो आज सुबह से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। मामले को लेकर फरियादी पुलिस से एफआईआर की मांग कर रहें हैं लेकिन अब तक पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि हमलावरों के संबंध नामली के एक रसूखदार राजनेता से जुड़े हैं। बताया जा रहा है कि इस विवाद में वो आरोपी भी हैं जिनपर अवैध शराब बिक्री एवं और अन्य अवैध गतिविधियों के आरोप हैं।

ये भी पढ़ें- Gold Silver Rate : सोना पुरानी कीमत पर, चांदी के रेट में तेजी, जानिए आज के भाव

वहीं इस घटनाक्रम को 12 घंटे बीत जाने के बाद भी नामली पुलिस द्वारा अब तक कोई कार्रवाई नहीं कि गई जिसके चलते अब पुलिस प्रशासन पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। मामले पर फरियादी ने शिकायत कर घटना से जुड़े सभी वीडिओ थाने में दिये और साथ ही बताया कि इसमे वो भी आरोपी हैं जिनपर अवैध शराब बेचने के आरोप हैं और जिन्होंने पूर्व में एक पुलिस दरोगा पर भी हमला किया था, फिर भी पुलिस ने अब तक मामले पर शिकायत दर्ज नहीं की जिससे अंदेशा लगाया जा रहा है कि पुलिस किसी राजनैतिक दबाव के चलते मूकदर्शक बनी बैठी है।