Ratlam News: गुजरात में 12लाख के नकली नोटों के साथ दम्पति हुआ गिरफ्तार, फर्जी आईडी कार्ड से गुमराह करने की कोशिश

इतना ही नहीं पुलिस ने जब दोनों से पहचान मांगी तो पुलिस को गुमराह करने के लिए दोनों ने अपना असली नाम न बताकर अपना नाम रवि गुप्ता और विभा गुप्ता बताया। साथ ही रवि गुप्ता के नाम से श्रमजीवी पत्रकार का फर्जी आईडी कार्ड दिखाया।

रतलाम, डेस्क रिपोर्ट। रतलाम (ratlam) निवासी एक दंपति गुजरात (gujrat) के भुज (bhuj) में 12 लाख रुपए के नकली नोटों (fake notes) के साथ गिरफ्तार हुआ है। भुज के बाज़ार में महंगे कपड़े, जूते व महंगे मोबाइल सहित लाखों की खरीदारी कर रहे इस दंपति पर एक दुकानदार (shopkeeper) को शक हुआ। शक होने पर उसने दम्पति द्वारा दिये गए नोटों की जांच करवाई। जांच में सभी नोट नकली पाए गए। दुकानदार ने पुलिस (police) को इस घटना की जानकारी दी तब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज (cctv footage) के आधार पर इस दम्पति की तलाश शुरू की और भुज रेलवे स्टेशन (bhuj railway station) पर दोनों को गिरफ्तार (arrest) कर लिया गया।

यह भी पढ़ें… Bengal Election: सीएम शिवराज ने बताया DIDI का मतलब, ममता सरकार पर साधा निशाना

आरोपी दम्पति के पास से मध्यप्रदेश के नंबर वाली कार, श्रमजीवी पत्रकार का आई कार्ड साथ में 12 लाख 10 हजार 500 रुपए के नकली नोट बरामद किए गए। पुलिस ने बताया कि आरोपी दम्पति 4 दिन से भुज में ही हैं और आगे इनकी सोना खरीदने की तैयारी थी। आरोपी दम्पति गांधी नगर, एयरपोर्ट रोड सहित कुछ अन्य जगहों से सोना खरीदने की तैयारी में थे। इसकी वजह ये है कि इन जगहों पर ठगों द्वारा सस्ता सोना बेचा जाता है। दम्पति तीन बार सोने का सौदा 30 हजार रुपए प्रति तोले की दर पर करके आ चुके थे लेकिन किन्हीं कारणों से सोना नहीं मिल पाया। चौथी बार सोना खरीदने के लिए जाने पर वे नकली नोट साथ लेकर गए औए उसी से शॉपिंग की। भुज पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर उनके खिलाफ 9 पन्नों की एफआईआर दर्ज की है।

कैसे हुआ मामले का खुलासा: भुज में महंगा सामान बेचने के बाद एक दुकानदार को ज्ञात हुआ कि उसको नकली नोट थमाए गए हैं। इसके बाद वो सीसीटीवी फुटेज के साथ भुज सिटी पुलिस थाने पहुंचा और रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज को आधार बनाते हुए जांच-पड़ताल शुरू की और भुज रेलवे स्टेटशन पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

इतना ही नहीं पुलिस ने जब दोनों से पहचान मांगी तो पुलिस को गुमराह करने के लिए दोनों ने अपना असली नाम न बताकर अपना नाम रवि गुप्ता और विभा गुप्ता बताया। साथ ही रवि गुप्ता के नाम से श्रमजीवी पत्रकार का फर्जी आईडी कार्ड दिखाया। लेकिन पुलिस के सख्ती से पूछने पर दोनों ने अपनी असल पहचान बता दी। शनिवार को रतलाम पुलिस आरोपी दम्पति को भोपाल ला सकती है।