रतलाम, सुशील खरे। आज हम आपको मिलाते हैं एक ऐसी महिला से, जिनके हौंसलों की कहानी किसी के लिए भी एक मिसाल हो सकती है। ये हैं रतलाम के जावरा की रहने वाली बबली गंभीर। बबली का जब जन्म हुआ तो उनके हाथ असामान्य थे। छोटे-छोटे हाथों में से एक में तीन और दूसरे में सिर्फ ढाई उंगलियां थी। जन्म के साथ ही जब लोगों ने ये देखा तो सभी सकते में आ गए, कई लोगों ने तो ये तक कहा कि एक तो बेटी उसपर से इस तरह की असामान्य स्थिति, उनके लिए जीवन बेहद कठिन होने वाला है। लेकिन इस कठिनाई के साथ ही एक जज्बे का भी जन्म हो चुका था।

बबली को उनके पिता ने बेहद प्यार से संभाला, मां ने जीवन की कठिनाईयों से उबरना सिखाया और बहनों ने कदम कदम पर साथ दिया। 8 भाई बहनों में बबली सबसे छोटी थी। इंग्लिश लिटरेचर में एमए करने के बाद बबली ने ब्यूूटिशियन का कोर्स किया और आज वे बहुत ही सफल ब्यूटिशिनय हैं। पिछले 25 साल से वो अपना ब्यूटी पार्लर चला रही हैं। उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार, राष्ट्रीय उत्कृष्ट सृजनशील वयस्क पुरस्कार सहित कई पुरस्कार मिल चुके हैं। आज स्थिति ये है कि जिन हाथों के लिए उन्हें कभी लोगों के उलाहनों का सामना करना पड़ता था, उन्हीं जादुई हाथों से वो दूसरों को खूबसूरत बना रही हैं। ब्यूटी पार्लर चलाने के साथ वे इंटीरियर डिजाइनर और पेंटर भी है। इसी के साथ वह बहुत अच्छा ढोलक भी बजाती है, सिलाई-कढ़ाई करते हुए गाड़ी भी चलाती हैं।

इन जादुई हाथों वाली महिला से हम आपको रूबरू कराने जा रहे हैं सोमवार को शाम 5 बजे। हमारे फेसबुक पेज बबली गंभीर लाइव होंगी और आप उनसे सुन सकते हैं उनकी कहानी। इसी के साथ आप उनसे सवाल भी कर सकते हैं। तो सोमवार शाम जुड़िये एमपी ब्रेकिंग के फेसबुक पेज पर https://www.facebook.com/MPBreakingNews/ https://www.youtube.com/channel/UC7No6GrLyeKiayj7rYLDMcQ/ बबली गंभीर से मिलकर जानिये एक हौंसले से भरी, सपनों से भरी, उम्मीदों से भरी जिंदगी की कहानी।