सुब्रत राय को पकड़ने के लिए गई पुलिस की टीम, धोखाधड़ी के आरोप

दरअसल आरोप है कि अकेले रतलाम जिले में लगभग डेढ़ अरब रुपए से ज्यादा लोगों का सहारा को लौटाना है लेकिन कंपनी की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं दिया गया है।

SAHARA

रतलाम, डेस्क रिपोर्ट। सहारा प्रमुख सुब्रत राय की गिरफ्तारी की कवायद तेज हो गई है। रतलाम जिले के जावरा की दो पुलिस टीमें सुब्रत राय की गिरफ्तारी के लिए लखनऊ और मुंबई गई है। सुब्रत पर निवेशकों के साथ धोखाधड़ी के आरोप में एफ आई आर दर्ज हुई थी जिसके बाद कोर्ट ने गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी किए हैं।

देशभर में लाखों निवेशकों के अरबों खरबों रुपए डकार बैठी सहारा इंडिया कंपनी की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही। ताजा मामला रतलाम जिले के जावरा का है जहां सुब्रतो राय सहित उनके कई अधिकारियों के खिलाफ निवेशकों के साथ धोखाधड़ी करने के मामले दर्ज हैं।

दरअसल आरोप है कि अकेले रतलाम जिले में लगभग डेढ़ अरब रुपए से ज्यादा लोगों का सहारा को लौटाना है लेकिन कंपनी की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं दिया गया है। धन को दोगुना और तीन गुना करने का लालच दिखाकर कंपनी ने हजारों निवेशकों से पैसा तो निवेश करवा लिया लेकिन परिपक्वता अवधि पूरी होने के बाद भी वह वापस नहीं लौटाया जा रहा है। ऐसे में वीरेंद्र सोलंकी के नेतृत्व में जन संघर्ष न्याय मोर्चा के बैनर पर आंदोलन हुआ था और उसके बाद थाने में एफ आई आर दर्ज की गई। मामला कोर्ट में पहुंचा और सुब्रत राय सहारा और अधिकारियों के खिलाफ वारंट जारी हुए। इस मामले में सहारा के उज्जैन संभाग के मैनेजर देवेन्द्र शर्मा को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। अकेले रतलाम जिले में 60000 खाताधारकों का 80 करोड़ मूलधन और डेढ़ गुना तक ब्याज की राशि बकाया है, ऐसा जन संघर्ष मोर्चा के प्रभारी गिरजा शंकर दायमा का कहना है। अब जावरा से पुलिस की दो टीमें एक मुंबई और एक लखनऊ भेजी गई है और सुब्रतो राय की गिरफ्तारी की कवायद तेज हो गई है।