रतलाम, सुशील खरे। ताल तहसील थाना बरखेड़ा कला अंतर्गत पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक गोवर्धन सिह सोलंकी का शुक्रवार की शाम को सड़क दुर्घटना में आकस्मिक निधन हो गया। जिस समय वो पुलिया के नीचे गिरे उनके सिर पर हेलमेट नहीं था और उनकी मौत हो गई। इस हादसे के बाद पुलिस विभाग में शोक की लहर छा गई। लेकिन कुछ ही समय में ये घटना हंगामे में बदल गई जब मृतक की दो पत्नियों सहित भाई ने भी लाश पर हक़ जमा दिया। आखिरकार कोर्ट ने पहली पत्नी की पुत्री को अंतिम संस्कार की अनुमति दी।

दमोह- घाट पिपरिया के पास हुआ हादसा, एक बीजेपी नेता सहित दो की मौत

पुलिस थाना बरखेड़ा कला में सहायक उपनिरीक्षक के पद पर पदस्थ गोवर्धन सिह सोलंकी की बरखेड़ा खुर्द पुलिया से नीचे गिरने से मृत्यु हो गई। घटनास्थल बरखेड़ा कला पुलिस थाना क्षेत्र की है। पुलिस द्वारा तत्काल डायल हंड्रेड से सोलंकी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ताल पर लाया गया था परंतु चिकित्सक द्वारा उनका परीक्षण कर मृत घोषित कर दिया है। शव परीक्षण शनिवार को प्रातः किया गया और इसके बाद उस वक्त वहां हंगामे की स्थिति बन गई जब पोस्टमार्टम रूम के बाहर तीन दावेदार शव लेने आ गए। जानकारी के मुताबिक मृतक का पहली पत्नी से विवाद चल रहा था और मामला अदालत में है। वो अपनी दूसरी पत्नी के साथ रह रहा था। लेकिन मौत के बाद पहली पत्नी और बेटी, दूसरी पत्नी और मृतक का भाई भी शव पर दावा करने लगा।

शव ले जाने को लेकर मृतक की पहली पत्नी और दूसरी पत्नी जिद पर अड़ गई। इन्होने मौके पर खूब हंगामा किया जिसपर इंस्पेक्टर नागेश यादव ने उन्हें समझाईश भी दी। वहीं मृतक का भाई शव को अपने साथ उज्जैन ले जाना चाहता था। यह घटनाक्रम काफी देर तक चलता रहा मगर मामले का निराकरण नहीं हुआ। वरिष्ठ अधिकारी के इंतजार में मौके पर बरखेड़ा कला थाना प्रभारी महिला एवं मृतक के परिजन मौजूद रहे। बाद में कोर्ट ने अंतिम संस्कार का अधिकार मृतक की पहली पत्नी की बेटी को दे दिया। उसके साथ में मृतक का भाई भी संस्कार में पहुंचा। लेकिन हंगामा अभी शांत नहीं हुआ और वहां पर जब पहली पत्नी रस्म निभा रही थी तभी मृतक का भाई भड़क गया और उसने महिला की जमकर पिटाई कर दी। एक बार फिर थाने के उप निरीक्षक नागेश यादव में मामला शांत करवाया लेकिन एक व्यक्ति की मौत के बाद उपजे इस हंगामे ने सभी को परेशानी में डाल दिया।