यहां बागियों ने बिगाड़ा बीजेपी-कांग्रेस का गणित, अंतिम समय में रोचक हुआ मुकाबला

rebel-candidate-become-challenge-for-bjp-and-congress-in-jaora-seat-

रतलाम| मध्य प्रदेश में सत्ता का संग्राम अब रोचक मोड़ पर है और अंतिम समय में दिग्गज नेता पूरी ताकत झोंक रहे हैं| बीजेपी में जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह वन मेन आर्मी की तरह प्रदेश भर का चक्कर लगा रहे हैं, वहीं स्टार प्रचारक भी मिशन एमपी के लिए डेरा डाले हुए हैं| कांग्रेस में ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ माहौल बनाने की कोशिश में है और वक्त है बदलाव का नारा लेकर जगह जगह पहुंच रहे हैं| बाकी कसर स्टार प्रचारक पूरी कर रहे हैं| लेकिन दोनों ही पार्टियों को बागियों से चुनौती मिल रही है| कई सीटों पर तो हालात बिगड़ते नजर आ रहे हैं| रतलाम जिले की जावरा सीट पर मुकाबला रोचक हो गया है| यहां भितरघात ने दोनों ही पार्टियों का खेल बिगाड़ दिया है, अब अंतिम समय में बीजेपी और कांग्रेस प्रत्याशी बिगड़ी बाजी को संभालने में जुटे हैं। 

दरअसल, मैदान में भाजपा से राजेंद्र पांडेय और कांग्रेस से केके सिंह कालूखेड़ा मैदान में हैं। बागियों ने यहां मुश्किलें बढ़ा दी है| भाजपा व कांग्रेस में एक-एक बागी मैदान में काबिज हैं। 1957 से अब तक के इतिहास में जावरा सीट पर पहला मौका है जब दोनों प्रमुख दलों से बागी एक साथ मैदान में हैं। इससे चतुष्कोणीय मुकाबले की स्थिति है। पहले कभी कांग्रेस तो कभी भाजपा से बागी रहे। भाजपा के बागी श्यामबिहारी पटेल और कांग्रेस के बागी डॉ. हमीरसिंह मैदान में बीजेपी कांग्रेस के लिए मुसीबत बन गए हैं । यहां ज्योतिरादित्य सिंधिया की जिद से ही स्व. महेंद्रसिंह कालूखेड़ा के भाई केके सिंह को टिकट मिला तो दिग्विजय के सिपाहसालार बगावत पर उतर आए। मालवा-निमाड़ की कमान हाथ में लेकर चल रहे कैलाश विजयवर्गीय के लाख मनाने के बाद भी श्यामबिहारी नहीं माने, बल्कि विजयवर्गीय को बैरंग लौटाकर उन्होंने संगठन को चुनौती देने का काम किया। अब जावरा में न भाजपा की राह आसान है और न ही कांग्रेस की। बागी खेल बिगाड़ चुके हैं, हालांकि दोनों ही दल बिगड़ी बाजी को संभालने में जुटे हैं।

 

रतलाम जिले की पांच सीटों पर भाजपा का कब्जा

रतलाम जिले में 5 विधानसभा सीटें हैं जिनमें रतलाम ग्रामीण, रतलाम शहर, सैलाना, जावरा और आलोट शामिल हैं| इन 5 विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है| रतलाम ग्रामीण से मथुरालाल, रतलाम शहर से चैतन्य कुमार कश्यप, सैलाना से संगीता विजय चारेल, जावरा से राजेंद्र पाण्डेय और आलोट सीट से जितेंद्र थावरचंद गहलोत विधायक हैं|विधानसभा चुनाव 2013 के मुताबिक रतलाम जिले की पांचों सीटों पर 9,23,553 मतदाता हैं जिनमें से 7,06,581 यानी 76.5 फीसदी मतदाताओं ने चुनाव में वोटिंग की. पिछले विधानसभा चुनावों में राजनीतिक दलों को मिले वोट के लिहाज से देखा जाए तो इन पांचों सीटों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 3,64,318 (51.6%), कांग्रेस को 2,57,141 (36.4%), जनता दल (यूनाइटेड) यानी जदयू को  34,570 (4.9%), निर्दलीय उम्मीदवारों को 30,017 (4.2%) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को 10,347 (1.5%) वोट मिले थे|