ताल आलोट को मिली सौगात, नए सत्र से स्नातकोत्तर कोर्स भी शुरु होंगे

मंत्री यादव ने कहा प्रदेश में ऐसे कालेज जिनमे छात्रों की संख्या काफी कम है उनको बन्द नही किया जा रहा है बल्कि उनका अन्य कॉलेजों में संविलय किया जा रहा है, कालेज बन्द नही होंगे।

रतलाम, सुशील खरे| देश में अब छात्रों को ऐसी शिक्षा देने की तैयारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के नेतृत्व में की जा रही है जिसमें की रोजगार मिल सके। छात्र शिक्षा लेकर केवल नोकरी के भरोसे नही रहे। राज्य सरकार की कोशिश है कि आगामी समय मे प्रदेश की एक यूनिवर्सिटी दुनिया की टॉप 100 में शामिल हो। आलोट ओर ताल में महाविद्यालय में आगामी सत्र से स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम भी शुरू किए जाएंगे। यह बात प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव (Mohan Yadav) ने आज ऱतलाम (Ratlam) जिले के ताल में कही। श्री यादव ताल में नवनिर्मित महाविद्यालय भवन के लोकार्पण समारोह में बोल रहे थे।

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत, प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, पूर्व विधायक श्री जितेंद्र गहलोत द्वारा ताल में 6.50 करोड़ रुपए की लागत से नवनिर्मित शासकीय महाविद्यालय भवन का लोकार्पण किया गया । इस अवसर पर उच्च शिक्षा विभाग के ए डी आरसी जटवा, और लीड कालेज के प्राचार्य संजय वाते मौजूद रहे

कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री श्री गेहलोत ने कहा कि आलोट क्षेत्र में गुणवत्तायुक्त शिक्षा के लिए सतत कार्य किया जा रहा है। इसके साथ ही सर्वांगीण विकास के लिए शासन दृढ़ संकल्पित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सभी वर्गों के विकास के लिए कार्य किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में विश्वविद्यालयों के शैक्षणिक स्तर को सुदृढ़ किया जा रहा है।

प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने अपने उद्बोधन में कहा कि राज्य शासन प्रदेश के महाविद्यालयों में विद्यार्थियों को ज्यादा से ज्यादा रोजगारमूलक पाठ्यक्रम उपलब्ध कराएगा ताकि विद्यार्थियों को बेहतर जॉब प्लेसमेंट मिल सके, वे तकनीकी रूप से दक्ष हो सके। इसके लिए नई शिक्षा नीति में भी प्रावधान किया गया है। अब महाविद्यालयों के स्नातक पाठ्यक्रम के अंतर्गत 1 वर्ष में सर्टिफिकेट, 2 वर्ष में डिप्लोमा 3 वर्ष में डिग्री तथा 4 वर्ष में शोध के साथ डिग्री मिलेगी। स्नातकोत्तर अध्ययन के पश्चात सीधे पीएचडी की जा सकेगी। डॉ. यादव ने कहा कि आलोट तथा ताल में आगामी सत्र से स्ववित्त द्वारा स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम आरंभ किए जा सकेंगे। साथ ही ताल महाविद्यालय में बीएससी, बीकॉम कक्षाएं भी आरंभ की जाएगी। डॉ. यादव ने कहा कि प्रदेश के उच्च शिक्षा संस्थानों की शैक्षणिक गुणवत्ता में बेहतरी के लिए राज्य शासन द्वारा वृहद स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं, कोशिश है कि प्रदेश के विश्वविद्यालय देश के अग्रणी विश्वविद्यालयों की सूची में शामिल हो।

कार्यक्रम में सांसद अनिल फिरोजिया ने अपने संबोधन में कहा कि नवनिर्मित महाविद्यालय भवन ताल नगर के लिए बड़ी सौगात है। राज्य शासन सर्वांगीण विकास के लिए लगातार कार्य कर रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भी आलोट क्षेत्र में विकास की कई सौगातें दी है। कार्यक्रम में पूर्व विधायक जितेंद्र गहलोत, ने भी संबोधित किया।

कार्यक्रम के बाद मीडिया से बात करते हुए मंत्री यादव ने कहा कि आलोट ओर ताल में केवल बीए ही नही सभी संकाय की कक्षाएं आगामी सत्र से लगेगी। और स्नातकोत्तर कक्षा के लिए अगर समय सीमा में अनुमति ली जाएगी तो सरकार देगी। प्रदेश में ऐसे कालेज जिनमे छात्रों की संख्या काफी कम है उनको बन्द नही किया जा रहा है बल्कि उनका अन्य कॉलेजों में संविलय किया जा रहा है, कालेज बन्द नही होंगे।