आशिक के साथ मिलकर पत्नी ने करवाई अपने पति की हत्या, तीन आरोपी गिरफ्तार

36 घंटे के अंदर रतलाम पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी, सुपारी देकर यार के साथ मिलकर पत्नी ने करवाई थी पति की हत्या। शूटर को दी थी 2 लाख रुपए की सुपारी।

firing-in-bhind

रतलाम, सुशील खरे। रतलाम के औद्योगिक थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम मुंशीपाड़ा के निकट बाइक पर जा रहे युवक की गोली मारकर हत्या के मामले का रतलाम पुलिस ने 36 घंटे के अंदर खुलासा कर दिया है। पुलिस के अनुसार युवक की ढाई लाख रुपए में सुपारी देकर हत्या कराई गई थी। पुलिस ने इस मामले में सुपारी देने वाले और दो शूटर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। गुरुवार को पुलिस नियंत्रण कक्ष पर एसपी ने इस पूरे मामले का खुलासा किया।

दरअसल, ग्राम बड़लीपाड़ा(रामपुरिया) निवासी मुकेश पिता प्रभुलाल निनामा उम्र 21 वर्ष, रतलाम में एक माईक्रोफाईनेंस कंपनी में कर्मचारी था। 14 दिसम्बर 2020 सोमवार शाम भी बैंक से रोज की तरह घर के लिए बाईक से निकला था, परंतु मुंशीपाड़ा के पास रास्ते में उसका शव गड्ढ़े में पड़ा मिला। उसका भाई भी अपने काम के बाद घर लौट रहा था, जब ग्राम रामपुरिया और बड़लीपाड़ा के बीच सड़क किनारे गड्ढ़े के पास भीड़ लगी हुई थी। उसे देखकर वह भी रुका तो भीड़ में मौजूद लोगों ने बताया कि नीचे बाईक सहित एक युवक पड़ा हुआ है, जिसका संभवत: एक्सीडेंट हुआ है। मृतक के छोटे भाई ने नीचे देखा तो अपने ही भाई और उसकी बाईक को पड़ा देखकर तुरंत लोगों की मदद से उसे उठाया, एम्बुलेंस से उसे जिला अस्पताल लाए। प्रारंभ में युवक की मौत का कारण दुर्घटना माना जा रहा था। वहीं मंगलवार सुबह करीब 10.30 बजे जब डॉक्टर ने पोस्टमार्टम किया तो उसके सिर के पिछले हिस्से से गोली निकली। पीएम से हुए चौंकाने वाले खुलासे के बाद पुलिस ने इस मामले में अज्ञात आरोपी के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू की।

मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी तिवारी ने इस अंधे कत्ल को सुलझाने के लिए टीम बनाकर जांच के निर्देश दिए। एसपी मामले पर निगरानी रख रहे थे। एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि मामले की जांच में पुलिस को मृतक की पत्नी के सैलाना के किसी व्यक्ति से संबध की जानकारी मिली। साइबर सेल की मदद से जब पुलिस ने पड़ताल की तो मृतक की पत्नी के सैलाना निवासी अशोक पिता कारुलाल से मोबाइल पर लगातार बातचीत होने की जानकारी मिली। थाना प्रभारी रेवल सिंह बर्डे ने बताया कि मृतक की पत्नी और उक्त व्यक्ति की लगातार बातचीत होने पर पुलिस ने अशोक को हिरासत में लेकर उससे गहनता से पूछताछ की। पुलिस  पूछताछ में अशोक ने पूरे मामले का खुलासा किया।

शूटर को सुपारी देकर कराई हत्या

एएसपी इंद्रजीत बाकरवाल ने बताया कि पूछताछ में अशोक ने मृतक की पत्नी से प्रेम करने की बात बताई। पूछताछ में उसने बताया कि 2 माह पहले इसी बात को लेकर उसका मुकेश से उसके सुसराल ताजपुरिया में विवाद भी हुआ था। इसी बात के बाद से ही अशोक ने मुकेश की हत्या करवाने की योजना बनाई। पुलिस ने बताया कि इसके लिए आरोपी अशोक ने पिपलौदा थाना निवासी लाला पिता शाजाद और दिनेश पिता शंकरलाल को ढाई लाख रूपए की सुपारी देने की बात बताई। आरोपियों ने मुकेश की रेकी की और घटना वाले दिन उसके बैंक से निकलने के बाद उसका पीछा किया। मुंशी पाड़ा के निकट सुनसान जगह पर आरोपियों ने मुकेश को गोली मारकर उसकी हत्या कर दी और भाग गए।पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

मामले को सुलझाने में इनकी रही भूमिका

एसपी के निर्देशन में इस मामले को 36 घंटे के अंदर सुलझाने में ओद्योगिक क्षेत्र थाना प्रभारी रेवल सिंह बरडे,एसआई जितेन्द्र कनेश,अल्केश सिंघाड़,रामसिंह खपेड़,होतीलाल विश्वकर्मा,आर.के.चौहान,एएसआई रायसिंह रावत,सुरेशकुमार शिंदे, प्रधान आ. हितेन्द्रसिंह, नानूराम मुनिया,शोभाराम शर्मा,आर. दीपकसिंह,विरेन्द्रसिंह,गोपाल,सोनु राठौर,महिला आरक्षक प्रतिभा तथा साइबर सेल के जुझारसिंह राठौर की महत्वपूर्ण भूमिका रही।