उज्जैन एयरपोर्ट को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रदेश सरकार के पाले में डाली गेंद, कही ये बात

Ujjain News: उज्जैन में लंबे समय से एयरपोर्ट (Airport) बनाने की मांग की जा रही है। इस मामले को लेकर केंद्रीय नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का कहना है कि यह प्रदेश सरकार (state government) का निर्णय है। एयरपोर्ट बनाने के लिए अगर जमीन उपलब्ध करवा दी जाती है तो यह बनकर तैयार हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा है कि इस संबंध में वह मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया उज्जैन में आयोजित सुमंगलम पंचमहाभूत अभियान के समापन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। इस दौरान मीडिया ने उनसे उज्जैन एयरपोर्ट के संबंध में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा जमीन देने के बाद ही इस दिशा में आगे बढ़ा जा सकेगा। लंबे समय से उज्जैन में एयरपोर्ट बनाने की मांग की जा रही है। हर 12 साल में सिंहस्थ के आयोजन के दौरान यहां लाखों लोग पहुंचते हैं। इसके अलावा हाल ही में तैयार किए गए महाकाल लोक को देखने के लिए देश और दुनिया भर से भक्तों का जमावड़ा उमड़ रहा है इसलिए यहां पर एयरपोर्ट बनाए जाने की मांग ने अब तेजी पकड़ ली है।

पंचमहाभूत कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह पृथ्वी हमारी मालिक है और हम इसके किराएदार हैं। यही सोच हमें अपनी आत्मा में जागृत करनी होगी तब जाकर हम जल संरक्षण का नया अध्याय शुरू कर सकेंगे। उन्होंने आगे कहा कि आज पूरा विश्व भारत की ओर देख रहा है और देश पांचवी बड़ी आर्थिक शक्ति के रूप में सबके सामने आकर खड़ा हुआ है। 8 साल पहले हम 13 नंबर पर थे और अब विश्व भर में 5 नंबर पर पहुंच चुके हैं। अध्यात्म शक्ति के रूप में उभरे भारत को आज पूरा विश्व देख रहा है। अपने संबोधन में सिंधिया ने यह भी कहा कि यह हमारी वही भारत माता है जिन्होंने 5 धर्म को जन्म दिया है, जहां अध्यात्म की शुरुआत हुई है और भारत नक्षत्र की तरह उभरकर सामने आया है।

उज्जैन में आयोजित किए गए सुमंगलम पंचमहाभूत अभियान के तहत देश और दुनिया में पानी बचाने का संदेश देने के लिए सेमिनार का आयोजन किया गया। 27 से 29 दिसंबर तक रखे गए इस आयोजन को भारत सरकार के सहयोग से दीनदयाल शोध संस्थान और मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद द्वारा आयोजित किया गया, जहां देशभर के विद्वानों ने अपने विचार रखे।