BJP की मुश्किलें बढ़ी, रीवा विधायक और सांसद समेत 9 पर एफआईआर

रीवा।

एमपी में बीजेपी की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है।प्रहलाद लोधी के सदस्यता का विवाद अभी खत्म नही हुआ कि अब शिवराज सरकार में मंत्री रहे रीवा के स्थानीय विधायक राजेन्द्र शुक्ल और रीवा से भाजपा सांसद जनार्दन मिश्रा समेत 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर की गई है। 

दरअसल, रीवा नगर निगम के परिषद भवन का शिलान्यास और भूमि पूजन तत्कालीन मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने किया था। भाजपा नेताओं की इच्छा थी कि इन भवन का लोकार्पण भी राजेन्द्र शुक्ल के हाथों से हो। जबकि कांग्रेस नेता चाहते थे कि भवन का लोकार्पण प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह के हाथों से हो क्योंकि प्रदेश में अब कांग्रेस की सरकार है।इस टकराव के बीच पिछले हफ्ते भाजपा सांसद जर्नादन मिश्रा, रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ल व सेमरिया विधायक केपी त्रिपाठी ने निर्माणधीन परिषद भवन में लगा तोड़वाकर उसका लोकर्पण कर दिया। इसके बाद भाजपा नेताओं ने भवन के अंदर प्रवेश किया। जिसको लेकर सियासत गर्मा गई है।कांग्रेस नेताओं और निगम के कर्मचारियों ने विरोध जताया।

दो दिन पहले नगर निगम के कर्मचारियों ने चेतावनी दी थी कि अगर मामला दर्ज नहीं किया गया तो सोमवार को जिले में रैली निकाली जाएगी। नगर निगम के कर्मचारियों की चेतावनी के बाद पुलिस ने पूर्व मंत्री, सांसद समेत 9 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।भाजपा नेताओं के खिलाफ जबरन एक इमारत का लोकार्पण करना और शक्ति प्रदर्शन करने के कारण ये केस दर्ज किया गया है।

बता दे कि विधायक राजेन्द्र और रीवा नगर निगम के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है। नगर निगम रीवा के आयुक्त एस यादव द्वारा  पूर्व मंत्री और विधायक राजेंद्र शुक्ला से 4 करोड़ 94 लाख रुपए से अधिक की वसूली का नोटिस भी जारी किया गया था, जिसको लेकर खूब विवाद भी हुआ था।